Home Featured अचानक तेज नहर कटने से सैकड़ों बीघे में भरा पानी फसलें बर्बाद

अचानक तेज नहर कटने से सैकड़ों बीघे में भरा पानी फसलें बर्बाद

by nikhil
8 views

मोतीगंज (गोण्डा) :- अचानक सरयू नहर में तेज रफ्तार से पानी छोड़े जाने के कारण नहर की दुसरी पटरी भी कटी  जिससे  सैकड़ों बीघे खेतों में भरा पानी गन्ने की फसल बर्बाद हो गई है।

बीते 19 जून को सरयू नहर में पानी तेज रफ्तार कन्धई जोत (गैजडा) गांव के पास पानी पहुचा तो नहर के उत्तर तरफ की पटरी कट गई जिसे सैकड़ों बीघे में पानी भर गया जिससे गन्ने कि फसल डूब कर बर्बाद हो गई। जिसे नहर विभाग के कर्मचारियों ने जेसीबी से बंधवा दिया था।

लेकिन उफनाई सरजू नहर खंड 3 में उसी जगह के समीप दक्षिण की पटरी करीब 5 मीटर पानी की धार से कटकर बह गई जिसे दक्षिण तरफ की भी सैकड़ों बीघे जमीन जलमग्न हो गई। पानी की धार को रोकने के लिए कन्धई जोत गांव के लोगों ने घर से बोरिया ले जाकर मिट्टी भरकर किसी तरह से नहर के पानी को रोका।

कन्धई जोत गांव के लोगों ने बताया कि बार बार नहर का पानी कटने का मुख्य कारण गांव के समीप बन रहे अंडर ग्राउंड साइफन है जिसे ठेकेदार द्वारा खुदाई कराने के बाद नहीं बनवाया और अर्ध निर्मित नहर की पटरी बार-बार कट जाती है जिसे कन्धई जोत गांव के लोगों की खेतों में लगी फसल डूब कर बर्बाद हो जाती हैं।

बिदित हो कि सरयू नहर खण्ड 3 बेनीपुर रजवाहा की दो दशक पूर्व नहर की  खुदाई हुई है। तब से पहली बार उक्त नहर का पानी कन्धई जोत पहुंचा और वहां के लोगों के लिए मुसीबत बन गया।

कन्धई जोत गांव के पास अचानक नहर का पानी पहुंचने से माइनर का निर्माण के लिए खुदाई की गई जगह पर पानी पहुंचते ही नहर कट गई और सैकड़ों बीघे खेतों में पानी भर गया।और फिर आज नहर की दूसरी पटरी भी कट गई जिससे सैकड़ों बीघा में पानी भर गया।

कन्धई जोत गांव निवासी राम बरन मिश्रा,काशी राम मिश्रा, केदारनाथ मिश्रा,पारस नाथ मिश्रा, वेदप्रकाश मिश्रा,  माधव, समेत दर्जनों लोगों ने सरयू नहर की उच्च अधिकारियों से तत्काल साइफन निर्माण कराएं जाने व कटी नहर को ठीक कराएं जाने की मांग की है।

रिपोर्ट अमित कुमार श्रीवास्तव

You may also like