सम्पूर्णानगर -खीरी। कस्बे में उस वक्त सनसनी फैल गई बीती देर शाम जब अज्ञात कारणों के चलते एक नव युवक ने कमरे में फांसी लगा ली। घटना की जानकारी मिलते ही परिजनों ने युवक को फांसी के फंदे से उतारकर सीएचसी ले गए जहां मौजूद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जिससे परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा।

शनिवार को कस्बा सम्पूर्णानगर निवासी रामचंद्र गुप्ता के सत्ताइस वर्षीय पुत्र मनीष गुप्ता ने अज्ञात कारणों के चलते घर में फांसी लगा ली, परिजनों के द्वारा आनन-फानन में युवक को पलिया के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर जाया गया,केंद्र पर मौजूद चिकित्सकों ने जाँच पड़ताल कर युवक को मृत घोषित कर दिया।वहीं घटना की सूचना मिलते ही मौके पर स्थानीय पुलिस पहुंच गई तथा युवक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवाने की बात कही लेकिन परिजनों ने युवक के शव का पोस्टमार्टम करवाने से साफ इंकार कर दिया,परन्तु पुलिस शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम की तैयारी करने लगी जिसका विरोध परिजन करने लगे, परिजनों का कहना था कि पंचनामा भरकर शव उन को सौंप दिया जाए क्योंकि युवक दिमागी तौर पर बहुत कमजोर था , उसका इलाज भी चल रहा था जिसकी वजह से उसने फांसी लगाई है।

लेकिन इस बात पर पुलिस प्रशासन तैयार नहीं हुआ जिसको लेकर पुलिस प्रशासन का परिजनों से विवाद होने लगा इधर घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर समाजसेवी संजीव मिश्रा पहुंच गए और परिजनों के साथ धरने पर बैठ गए । वहीं धरने की बात सुनकर मौके पर भारी पुलिस बल पहुंच गया जिसके बाद बहुत देर तक परिजनों व पुलिस प्रशासन में बातचीत का दौर चला लेकिन हार कर परिजनों को युवक के शव का पोस्टमार्टम करवाने की इजाजत दी गई जिसके बाद पुलिस ने युवक के शव का पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया ।