कानपुर। कोरोना महामारी से लड़ने के लिए प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग अपनी पूरी ताकत झोंक रहा है। जिसके चलते संक्रमण को रोकने के लिए संदिग्ध मरीजों की हर स्तर पर स्क्रीनिंग के प्रयास तेज हो गए हैं। मंडलायुक्त सुधीर एम बोबड़े ने आदेश दिया है कि अगर कोई भी व्यक्ति मेडिकल स्टोर से पैरासीटामोल या खांसी व ज़ुखाम की टैबलेट खरीदता है तो उसका नाम , पता व मोबाइल नम्बर नोट किया जाए, जिससे उस व्यक्ति की ट्रैकिंग की जा सके। अगर कोई व्यक्ति डॉक्टर के पर्चे के बगैर खांसी ज़ुखाम, सांस फूलने व बुखार की दवा लेने मेडिकल स्टोर पहुँचता है तो, उसका पूरा ब्यौरा दर्ज किया जाएगा।

आपको बताते चलें कि ऐसा माना जा रहा है कि इन व्यक्तियों में संक्रमण की सम्भावना हो सकती है। मंडलायुक्त ने सभी छः जिलों के डीएम को आदेश दिया है कि वह अपने अपने जिलों के मेडिकल स्टोर संचालकों को ऐसे मरीजों का पूरा रिकॉर्ड रखने का आदेश दें। इसी के साथ मेडिकल स्टोर संचालक जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी उपलब्ध कराएं।

  • कौस्तुभ शंकर मिश्रा