गोण्डा:- अवैध रूप से चल रहे दो पैथोलॉजी सेंटरों पर सीएचसी अधीक्षक ने छापेमारी कर बंद करा दिया। छापे के दौरान पैथोलॉजी में अनाधिकृत रूप से शुगर का जांच करते पाया गया। कार्रवाई के लिए सीएमओ को रिपोर्ट भेजी गई है।खरगूपुर नगर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के निकट वर्षों से नाथ पैथोलॉजी व बालाजी पैथोलॉजी सेंंटर संचालित थी। दोनों पैथोलॉजी पर सीएचसी अधीक्षक डॉ. जेपी शुक्ला ने चीफ फार्मेसिस्ट जीपी तिवारी, लैब टेक्नीशियन रजत कुमार के साथ छापा मारा।अधीक्षक ने बताया कि छापेमारी के दौरान नाथ पैथोलॉजी पर लोशियन प्रदूषण नियंत्रण प्रमाण पत्र मिला, बाकी रजिस्ट्रेशन, सर्टिफिकेट व किसी चिकित्सक की मौजूदगी नहीं मिली और जौविक प्रदूषण नियंत्रण प्रबंधन प्रमाण पत्र भी नहीं मिला।

पैथोलॉजी के रजिस्ट्रेशन और डॉक्टर के नाम में मिला अंतर

वहीं, दूसरी ओर बालाजी पैथोलॉजी पर सीएमओ कार्यालय से जारी रजिस्ट्रेशन 31 दिसंबर 2021 तक वैध मिला। उन्होंने बताया कि जिस नाम से पैथोलॉजी का रजिस्ट्रेशन है, वह डॉक्टर मौके पर नहीं मिला तथा विभिन्न सर्टिफिकेटों की समय सीमा दिसंबर 2020 में समाप्त हो चुकी पाई गई। बालाजी पैथोलॉजी पर छापेमारी के समय एक अनाधिकृत व्यक्ति शुगर की जांच करते हुए पाया गया। अधीक्षक डॉक्टर शुक्ला ने बताया कि अनाधिकृत रूप से चल रही दोनों पैथोलॉजी के संचालकों को चेतावनी देते हुए बंद करा दिया गया है। उन्होंने बताया कि कार्रवाई के लिए सीएमओ को रिपोर्ट को भेजी गई है।उल्लेखनीय है कि हाल ही में शिकायत के बाद दोनों पैथोलॉजी संचालकों को नोटिस देकर सप्ताहभर के भीतर जवाब तलब किया गया था। लेकिन दोनों संचालकों ने समय सीमा समाप्ति के उपरांत भी नोटिस का जवाब नहीं दिया, जिसके बाद छापेमारी की कार्रवाई की गयी।

रिपोर्ट राहुल तिवारी जिला संवाददाता गोंडा