आईआईटी कानपुर के साथ मिलकर विश्व में धाक जमायेंगे MSME

by saurabh

विश्व में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के बीच भारतीय MSME कंपनियों को आईआईटी कानपुर टेक्नोपार्क मंच के माध्यम से तकनीकी समाधान देगी। टेक्नोपार्क@आईआईटीके के सहयोग से TiE UP चैप्टर ने माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (MSMEs) के सामने आने वाली चुनौतियों और उत्पाद उन्नयन और तकनीकी समाधान के लिए आई आई टी कानपुर के साथ मौजूद विभिन्न सहयोग अवसरों को संबोधित करने के लिए एक घंटे का वेबिनार आयोजित किया।

इस आयोजन की मुख्य वक्ता , मुख्य परिचालन अधिकारी, टेक्नोपार्क @ आईआईटीके की सुश्री रीमा मित्तल थीं , जिन्होंने आईआईटी कानपुर रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी पार्क की स्थापना के पीछे के दर्शन पर प्रकाश डाला, जिसमें टेक्नॉलॉजी पार्क मूल्य श्रृंखला को आगे बढ़ाने और उच्च प्रौद्योगिकी रेडीनेस स्तर (टीआरएलएस) को 1 से 9 तक पहुँचाने को लक्षित किया गया है।उन्होंने बताया कि टेक्नोपार्क की कल्पना ‘मेक इन इंडिया ’और आत्म निर्भर भारत’ के तहत की गई है। भारत में अनुसंधान पार्कों को उद्योग-अकादमिक सहयोग में तेजी लाने और उन्हें अगले स्तर तक ले जाने के लिए ये भारत सरकार द्वारा समर्थित है।

माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (MSMEs) या कोई अन्य कंपनी टेक्नोपार्क परिसर में अपने अनुसंधान एवं विकास आधार की स्थापना करके या वार्षिक संबद्ध सदस्यता का लाभ उठाकर टेक्नोपार्क के साथ जुड़ सकती है और इस सहयोग से उन्हें अपने उद्योग को और भी ऊँचा उठाने, वृद्धि करने के लिए, 60 वर्षों की अवधि में निर्मित संपूर्ण आई आई टी कानपुर अनुसंधान पारिस्थितिकी का लाभ भी आसानी से प्राप्त हो जाएगा। टेक्नोपार्क के साथ सहयोग करने के लाभ कई हैं जैसे, आई आई टी कानपुर के छात्रों के साथ काम करने से लेकर आई आई टी कानपुर के केंद्रीय अनुसंधान सुविधाओं और उपकरणों तक पहुँच, सरकारी अनुदान प्राप्त करने के लिए आई आई टी कानपुर के संकाय के साथ संयुक्त रूप से प्रस्तावों को लिखने का लाभ भी मिल सकता है l

ALSO READ : राजनाथ सिंह ने ए सैट मिसाइल के मॉडल का उद्घाटन किया

सत्र के दूसरे भाग में, तीन और वक्ता इस चर्चा में शामिल हुए, जिनमें ट्रूफार्म के सह-संस्थापक श्री कुणाल कसेरा, वीटीओएल (VTOL) एविएशन इंडिया से श्री अंसार लोन, और कनोपी टेक्नो सॉल्यूशंस के श्री अनुज अवस्थी, तीनों वक्ताओं ने आईआईटी कानपुर की बौद्धिक और अनुसंधान अवसंरचनात्मक शक्तियों का लाभ उठाने के अपने विभिन्न अनुभवों को साझा किया और उन्होंने बताया कि कैसे उनकी कंपनियां संस्थान के संकाय और छात्रों के सहयोग से अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी समाधान और उत्पाद तैयार कर रही हैं। वीटीओएल एविएशन, और कनोपी टेक्नो सॉल्यूशंस ने टेक्नोपार्क@ आईआईटीके में अपने आरएंडडी बेस की स्थापना की है, जबकि ट्रूफार्म एक संबद्ध सदस्य के रूप में टेक्नोपार्क@ आईआईटीके के साथ हैं ।

वेबिनार के अंत में, प्रो० अविनाश कुमार अग्रवाल, प्रो-इंचार्ज, टेक्नोपार्क, ने कहा कि, “टेक्नोपार्क@ आईआईटीके, आईआईटी कानपुर के संकाय और छात्रों और सह-विकसित प्रौद्योगिकियों और समाधानों के साथ काम करने के लिए उद्योग को आमंत्रित कर रहा है, जो देश की महत्वपूर्ण जरूरतों को पूरा करता है”।

Related Posts