राजगढ़ (मध्य प्रदेश):- राजगढ़ जनपद थाना सुठालिया, जिला राजगढ़
मम्मी पापा की डांट से घबराकर नाबालिक हो गया था घर से फरार।
उल्लेखनीय है कि गुम हुए बालक बालिकाओं एवं अपहरण के मामलों में त्वरित संज्ञान लेकर अपराध निराकरण करने बाबत जिला पुलिस अधीक्षक, के कड़े निर्देश है। जिसके चलते थाना सुठालिया, कि पुलिस टीम द्वारा थाना क्षेत्र अंतर्गत गुम हुए एक बालक को 08 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद दस्त्याब करने में सफलता प्राप्त की गई है।
मामला कुछ इस प्रकार है कि दिनांक 02/05/2021 को थाना सुठालिया में फरियादी रोड जी पिता स्व. प्रभुलाल मोगिया, निवासी वार्ड क्रमांक 01 शंकरपुरा सुठालिया, ने आकर बताया कि मेरा नाबालिक लड़का करन मोगिया, उम्र 09 साल दिनांक 30/04/2021 को घर से बिना बताए कहीं चला गया, जिसे मैं और घर के लोग तलाश करते रहे पर उसका आज तक कोई पता नहीं चला जिसकी तलाश करने पर भी कहीं नहीं मिल पा रहा है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजगढ़ मनकामना प्रसाद, व एसडीओपी ब्यावरा किरण अहिरवार, के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी सुठालिया, द्वारा गुमशुदा अपहर्त बालक की दस्त्याबी हेतु एक टीम तैयार की गई।
आपको बता दें कि संपूर्ण मामले व घटनाक्रम से थाना प्रभारी सुठालिया दुर्जनसिंह बरकड़े, द्वारा मामले को गंभीरता से लेते हुए थाने पर अपराध कायम कर टीम का गठन किया, व नाबालिक बालक की तलाश करना शुरू की सूचना प्राप्त होने के 8 घंटे के अंदर उक्त बालक को दस्त्याब कर उससे पूछताछ की तो उसने बड़ी मासूमियत से बताया, कि मेरे मम्मी पापा मुझे डांटते मारते थे।
तो मैं अपनी मर्जी से उनसे नाराज होकर घर से चला गया।
आपको बता दें कि उसके परिजनों, एवं मम्मी संतोषबाई मोगिया, व पापा रोड जी मोगिया, को थाने बुलाकर लड़का सुपुर्द किया।
अपने लड़के को मिलकर उनके चेहरों पर मुस्कान आई व आंखें नम हो गई।
उक्त सराहनीय कार्य में थाना प्रभारी सुठालिया निरीक्षक दुर्जनसिंह बरकडे, व उनकी टीम के प्रआर.753 रविंद्र, आरक्षक 687 सूरज, आरक्षक 1005 बनेसिंह, आरक्षक 583 सतीश, एवं आरक्षक चालक 162 विनोद, का विशेष योगदान रहा।

रिपोर्ट कमल चौहान