लगातार बाहरी आक्रांताओं से जूझते रहे हिंदुस्तान के खुद के वजूद पर सवाल उठाने वाले कुछ नामचीन इतिहासकारों की हरियाणा के राखीगढ़ी में खुदाई से मिले अह्म सबूतों के खुलासे के बाद नींद गायब हो सकती है, क्योंकि शोधकर्ताओं द्वारा किए गए ताजा खुलासे में उन पुराने दावों और थ्योरीज को पूरी तरह से खारिज कर दिया गया है, जिसमें दावा किया जा रहा था कि भारत में आर्य बाहर से आए थे।

पिछले कई वर्षों से इतिहासकारों का झूठा नरेसन अब एक्सपोज हो चुका है। अब सवाल उनके ऐतिहासिक तथ्यों पर खड़े हो गए हैं।दरअसल, हरियाणा के राखीगढ़ी में खुदाई में मिले नरकंकालों के अवशेषों के अध्ययन में हुए खुलासे में उन दावों को पूरी तरह से खारिज कर दिया गया है, जिसमें कहा गया था कि आर्यन बाहर से भारत में आए थे। इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि शिकार करना, खेती और पशुपालन भारत के मूल निवासियों ने सीखा था।

रिपोर्ट को तैयार करने वाली टीम के प्रमुख प्रोफेसर वसंत शिंदे ने रिपोर्ट में इशारा करते हैं कि आर्यन हमले और आर्यन्स के बाहर आने के दोनों दावें निराधार हैं। इसके अलावा यह भी साफ किया है कि शिकार-संग्रह से आधुनिक समय के सभी विकास यहां के लोगों ने खुद किए थे।रिपोर्ट को पूरा करने में प्रोफेसर वसंत शिंदे और उनकी टीम को कुल 3 साल का समय लगा है। रिपोर्ट तैयार करने वाली टीम में भारत के पुरातत्वविद और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के डीएनए एक्सपर्ट शामिल हैं।

इस टीम ने गत 5 सितंबर को साइंटिफिक जनरल ‘सेल अंडर द टाइटल’ नाम से रिपोर्ट पब्लिश की है। यह रिपोर्ट हरियाणा के राखीगढ़ी से मिले एक नरकंकाल के अध्यन्न के आधार पर की गई है। इस नए रिसर्च का नाम ‘एन एनसेंट हड़प्पन जीनोम लैक्स एनसेस्ट्री फ्रॉम स्टेपे पेस्टोरेलिस्ट और ईरानी फार्मर्स’ है, जिसे साइंटिफिक जनरल ने प्रकाशित किया हैं।रिपोर्ट में तीन बिंदुओं को मुख्य रूप से दर्शाया गया है। पहला, प्राप्त कंकाल उन लोगों से ताल्लुक रखता था, जो दक्षिण एशियाई लोगों का हिस्सा थे। दूसरा, 12 हजार साल से एशिया का एक ही जीन रहा है। भारत में विदेशियों के आने की वजह से जीन में मिक्सिंग होती रही। तीसरा, भारत में खेती करने और पशुपालन करने वाले लोग बाहर से नहीं आए थे। हड़प्पा सभ्यता के बाद आर्यन बाहर से आए होते तो अपनी संस्कृति साथ लाते।

हालिया वैज्ञानिक खुलासे ने पूर्व के कई इतिहासकारों को आईना दिखा दिया है, जो आर्यन को बाहरी बता चुके हैं। आज भी देश में स्कूलों में इतिहास की किताबों में यह पढ़ाया जा रहा है कि आर्य बाहर से आए थे और भारत में आकर बस गए थे। कहते हैं इसी झूठी थ्योरी के कारण ही उत्तर-दक्षिण जैसे विवादों का जन्म हुआ।कहा जाता है कि अंग्रेजों ने यह झूठी थ्योरी भारतीयों को आपस में बांटकर उन पर राज करने की नीयत से लॉन्च की थी, लेकिन यह रहस्य है कि आजादी के बाद सरकारों ने इसे बढ़ावा क्यों दिया?कई स्वघोषित महान इतिहासकारो ने भी इस थ्योरी को हवा दी और जबरन थोपा जबकि आर्यों के आक्रमण या उनके बाहरी होने का कोई वैज्ञानिक आधार कभी मिला ही नहीं।

हालांकि बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर और कई दूसरे विद्वान इस थ्योरी के कट्टर विरोधी थे। बावजूद इसके पिछले 72 वर्षों से स्कूलों, कॉलेजो और रिसर्च में झूठे थ्योरी को मान्यता दी गई और अब तक झूठी थ्योरी को पढ़ाया भी जा रहा है।दरअसल, वर्ष 1890-1976 के बीच एक अंग्रेज पुरातत्वविद मॉर्टिमर व्हीलर ने आर्यो के बाहर से भारत में आने की झूठी थ्योरी दी थी। मॉर्टिमर व्हीवलर के मुताबिक उत्तर भारत में मिलने वाले गोरे लोग आर्य हैं, जो मध्य एशिया से भारत में आए थे। जबकि द्रविड़ और कुछ दूसरी जातियां भारत की मूल निवासी हैं। देश में दरार डालने वाले झूठे सिद्धांत का नेताओं ने पुरजोर समर्थन किया और अपने अधूरे ज्ञान को उन्होंने स्वलिखित किताब में भी उड़ेल दीया।कहते हैं कि मैक्स मूलर, विलियम हंटर और लॉर्ड टॉमस बैबिंग्टन मैकॉले इन तीन लोगों के कारण भारत के इतिहास का विकृतिकरण हुआ। अंग्रेंजों द्वारा लिखित इतिहास में चार बातें प्रचारित की जाती है। पहली यह की भारतीय इतिहास की शुरुआत सिंधु घाटी की सभ्यता से होती है। दूसरी यह की सिंधु घाटी के लोग द्रविड़ थे अर्थात वे आर्य नहीं थे। तीसरी यह कि आर्यो ने बाहर से आकर सिंधु सभ्यता को नष्ट करके अपना राज्य स्थापित किया था। चौथी यह कि आर्यों और दस्तुओं के निरंतर झगड़े चलते रहते थे।

ताजा हुए अह्म खुलासे ने निः संदेह आज अंग्रेजों और इतिहासकारों के झूठ की कलई उतार दी है, जिन्होंने आर्यों को बाहरी बताने में पूरी उम्र गुजार दी है, लेकिन इसका सटीक जवाब नहीं है कि आर्य अगर बाहरी थे तो वो भारत कहां से आए हैं। कोई इतिहासकार सेंट्रल एशिया कहता है, तो कोई साइबेरिया, तो कोई मंगोलिया, तो कोई ट्रांस कोकेशिया, तो कुछ ने आर्यों को स्कैंडेनेविया बताता है।मतलब यह कि आज से पहले किसी भी इतिहासकार के पास आर्यों का सबूत नहीं है। अधिकतर इतिहासकार आर्यों को मध्य एशिया का मानते हैं, लेकिन हरियाणा के राखीगढ़ी में की गई खुदाई में मिले नरकंकालों के डीएनए टेस्ट ने अब इसका जवाब दे दिया है कि आर्य बाहर से नहीं आए थे, बल्कि आर्यों का मूल स्थान भारत था और भारतीयों ने ही सबसे पहले कृषि और पशुपालन की शुरुआत की थी, जिसके बाद यह ईरान व इराक होते हुए पूरी दुनिया में पहुंची।

  • -निखिलेश मिश्रा