उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक लिमिटेड में अध्यक्ष पद हेतु किया गया नामांकन

by News Desk
56 views

एटा :- आज उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक लिमिटेड जलेसर में अध्यक्ष पद हेतु किया गया नामांकन।

नामांकन हेतु प्रत्याशी भारतीय जनता पार्टी के अतुल प्रताप सिंह एवं समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी सर्वेश यादव दावेदार रहे।

नामांकन हेतु 25 और 26 अगस्त 2020 नियत रखा गया था। नामांकन स्वीकार करने वाले राकेश कुमार त्यागी तहसीलदार जलेसर ARO के पद पर मौजूद रहे।

आज दिनांक 26 अगस्त 2020 को भाजपा प्रत्याशी अतुल प्रताप सिंह का नामांकन सर्वसम्मति से स्वीकार किया गया।

नामांकन करते समय अतुल प्रताप सिंह के समर्थक संजीव कुमार दिवाकर विधायक जलेसर एवं नगर पालिका अध्यक्ष विकास मित्तल एवं पम्मी ठाकुर आदि रहे मौजूद।

अतुल प्रताप सिंह का नामांकन होते ही राकेश कुमार त्यागी तहसीलदार जलेसरARO को किया गया हाईजैक।

समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी सर्वेश यादव रह चुके थे नामांकन से वंचित नहीं दिए गए थे आवश्यक प्रपत्र।

समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी सर्वेश यादव एवं उनके समर्थक लगाते रहे बैंक पर चक्कर नहीं हो सका था नामांकन।

सर्वेश यादव प्रत्याशी एवं उनके समर्थक पहुंचे  उपजिला अधिकारी जलेसर के कार्यालय पर तभी मौके पर पहुंच चुके थे मीडिया कर्मी जिसके बाद बिखर चुका था बखेड़ा।

जिसके बाद उप जिलाधिकारी जलेसर एवं क्षेत्राधिकारी श्री रामनिवास एवं थाना अध्यक्ष शकरौली एवं थाना अध्यक्ष जलेसर अपने दल बल के साथ बैंक पर उपस्थित हुए।

बैंक पर मौजूद प्रशासनिक अधिकारियों से मीडिया कर्मियों ने जानकारी चाही तो कैमरा के सामने अधिकारी हुए शर्मसार।

आज सपा प्रत्याशी सर्वेश कुमार यादव एवं उनके समर्थकों द्वारा मीडिया को बताया गया कि सत्ता पक्ष के दबाव में सरेआम लोकतंत्र की की जा रही हत्या।

सर्वेश कुमार यादव एवं उनके समर्थकों ने जिला अधिकारी एटा से लगाई गुहार तब जलेसर प्रशासन की होने लगी छीछालेतन।

जलेसर तहसील के प्रशासनिक अधिकारी सत्ता पक्ष के दबाव में कर रहे थे कार्य जो आज एक बार मनसूबे होते दिखे फेल करा चुके थे किरकिरी

काफी जद्दोजहद के बाद सायं करीब 3:00 बजे सपा प्रत्याशी सर्वेश यादव का नामांकन भली भाति किया गया स्वीकार

कल दिनांक 27 अगस्त 2020 को नामांकन पत्रों की होने वाली है जांच

सपा प्रत्याशी सर्वेश यादव का आरोप है कि मेरा नामांकन भली भांति सभी प्रकार की जांच पड़ताल के उपरांत स्वीकार किया गया है परंतु अभी खतरा बना हुआ है कि आज की तरह सत्ता पक्ष के दबाव में प्रशासनिक अधिकारी मेरे द्वारा जमा किए गए नामांकन पत्र में किसी भी प्रकार की हेरा फेरी कर ना करादें निरस्त

यदि समाज वादी पार्टी के प्रत्याशी सर्वेश यादव के साथ में ऐसा कुछ हुआ तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नीति एवं रीति पर सवाल खड़ा होना लाजमी होगा

    
       रिपोर्ट अनेश कुमार

Related Posts