NEWS KRANTI
Latest hindi News Website

- Advertisement -

उर्स ए मुफ्ती ए आजम हिंद के मौके पर हुई अज़ीमुश्शान कॉन्फ्रेंस

35

पीलीभीत-शेरपुर कलां मे तहरीक ए तहफ्फुजे सुन्नियत टी टी एस बाजार मे एक रोजा अजीमुश्शान कांफ्रेस बनाम हुजूर मुफ्ती ए आजम हिंद मनाया।
कांफ्रेस की शुरूआत हाफिज अमान रजा ने कुरानेपाक की तिलावत से शुरूआत की।
जिसमे हजरत अल्लामा मैलाना सईद रजा पीलीभीत ने तकरीर करते हुये कहा
मुफ्ती आजम हिन्द अपने वक्त की एक बड़ी अजीम शख्सियत थे। उनको उस वक्त के उलेमा और मशाईख ने अपना पेशवा माना। उनके इल्म अमल को देखते हुए मजहबी उलेमा ने उन्हे मुफ्ती आजम हिन्द माना। वहीं उन्हें मुततकी-ए आजम हिन्द भी कहा गया। मौलाना रिजवान रजा खलीली संभली ने तकरीर करते हुये कहा
हुजूर मुफ्ती-ए आजम हिन्द का नाम हजरत मुस्तफा रजा खां नूरी था। उन्होंने दीने इस्लाम की खिदमात बिल्कुल उसी रूप में की, जिस तरह उनके वालिद-ए गिरामी शेखुल इस्लाम आला हजरत इमाम अहमद रजा खां कादरी ने की थी। मुफ्ती आजम ने दर्से गांव में भी तदरीसी खिदमात अंजाम दी। इसके अलावा हिन्द के तमाम गोशों और विदेशों में जाकर बड़ी-बड़ी मजहबी कांफ्रेंसों में शिरकत की। मौलाना अब्दुल मुस्तफा ने कहा हुजूर मुफ्ती ए आजम ने कुरानों हदीस का पैगाम लोगों तक पहुंचाया। इन्होंने अपनी पूरी जिंदगी शरियते मुस्तफा के मुताबिक गुजारी। उनके मजहबे इस्लाम में महान शख्सियत होने के कारण खुद आला हजरत ने उन पर फक्र किया।मौलाना साजिद रजा ने कहा मुफ्ती आजम हिन्द की अजमते शान इस बात से भी मालूम होती है कि मरहरा शरीफ के नूरी मियां ने आपकी विलादत (पैदाइश) की बिशारत इमाम अहमद रजा कादरी को दी और कहा था कि यह बच्चा अपने वक्त में इल्मो फन का आफताब बनकर पूरे आलम को अपनी रौशन किरनों से मुनव्वर करेगा। शायरे इस्लाम नईम तहसीनी ने मुफ्ती आजम ए हिन्द की शान मे बेहतरीन नाते मनकवंत पढ़ी.जो सुन्नियत की शान है जो कौम का इमाम है रजा उसी का नाम नात पढ़कर लोग नारे लगाने मजबूर हो गया।
कांफ्रेस मे जेरे जिनामत अकीबे अहले सुन्नत हाफिज हामिद रजा ने की।
एक बजकर चालीस मिनट पर हुजूर मुफ्ती ए आजम हिंद के कुल शरीफ की रस्म अदा की गई। उलम़ा ने दुआ की मुल्क ए हिन्दुस्तान मे अमनो अमन की दुआ फरमाई नईमएडवोकेट.मोईनुल हसन.मास्टर फुरकान रजा.मीनू बरकाती.उबैस खां.दिलशाद खां.सलमान खां.नदीम रजा.शाहरूक बेग.बिलाल कुरैशी.खुशनूद खां.बिल्लू खां.मोन्टू बेग.तकदीर हसन.अमानत खां.मुन्ना खां.शराफत खां.सोनू खां.मुन्नन खां.हाजी रहीस.फरमान खां.जुनैद खां.रेहान रजा.सिकन्दर बाबू.भारी तादात मे लोग मौजुद रहे।

- Advertisement -

खबर-ज़ाहिद अली पीलीभीत

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.