एक्सीडेंट जंक्शन बन गए हाइवे के चौराहे

by raju
23 views

राजगढ़ :- ज़िले के नरसिंहगढ़ में हाइवे के चौराहे अब एक्सीडेंट जंक्शन का रूप लेते जा रहे हैं। एक दिन में 1 से 2 एक्सीडेंट हर रोज़ इन चौराहों पर हो रहे हैं, इसके चलते औसत 1 ना 1 व्यक्ति हर रोज़ यहाँ स्पॉट पर ही दम तोड़ रहे हैं। रविवार को चैनपुरा जोड़ पर पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष गोपाल माहेश्वरी की दुर्घटना में दुखद मौत हो गई, उसके थोड़ी देर बाद ही सोनकुंज के पास एक बाइक सवार दुर्घटनाग्रस्त हो गया और एक युवक बोड़ा जोड़ पर घायल हुआ। सोमवार को पुनः सराना-बोड़ा जोड़ पर बाईपास मार्ग के बीच बाइक सवार किसी वाहन से टकरा गए। इसमें भी ग्राम काछिपुरा बड़ोदिया निवासी युवक राहुल राजपूत की मौके पर ही दुखद मौत हो गई।
इस सबका ज़िम्मेदार हाइवे अथॉरिटी है,जिसने फोर लेन के नाम पर हाई स्पीड सड़कें तो बना दीं, लेकिन गाँवों को शहर से जोड़ने वाली सड़कों पर फ्लाई ओवर नहीं बनाए।

शान्तिधाम होते हुए शहर की सीमा के बाहर बाईपास मार्ग को धामधोर, भोनिपुरा, चैनपुरा, कड़िया आदि के लिए क्रासिंग पर भारी ट्रैफिक होने के बावजूद यहाँ फ्लाईओवर नहीं दिया गया, जबकि इस मार्ग से कृषि उपज मंडी, आईटीआई, मॉडल स्कूल,वेयर हाउस और सब्जी मंडी लगी हुई है, सड़कों के हाईस्पीड हो जाने से भारीलोडिंग वाहनों की बेलगाम स्पीड हर रोज़ मासूम बाइक सवार ग्रामीणों को रौंद रही है।
इसी तरह बोड़ा जोड़ पर भी बोड़ा-पचोर, नरसिंहगढ़ और भोपाल की का क्रासिंग पाइंट है। यहाँ गनियारी, बैरसिया, गांधीग्राम, सराना, सागपुरा आदि गांवों से भी सैकड़ों की तादाद में ग्रामीण रोज़मर्रा के काम और रोज़गार के लिए आते हैं,इसी प्रकार इन गांवों से भारी संख्या में छात्र- छात्राएं भी आवागमन करते हैं। अनियंत्रित गति से दौड़ते यह भारी वाहन इन मासूमो को भी हर रोज़ अपना निवाला बना रहे हैं।

नागरिकों ने रोज़-रोज़ होती दुर्घटनाओं से तंग आकर अब इन मार्गों पर फ्लाईओवर बनाने की मांग को लेकर उग्र आंदोलन का मन बना लिया है। लोगों ने रविवार को पूर्व नपाध्यक्ष की दुर्घटना में मौत के बाद आक्रोशित होकर चैनपुरा जोड़ पर चक्का जाम कर धरना दिया। नायाब तहसीलदार विकास रघुवंशी के आश्वासन पर ही चक्काजाम समाप्त हुआ। लेकिन अब क्या नागरिक क्या ग्रामीण सब आक्रोशित हैं और दलगत राजनीति से ऊपर उठकर हाइवे पर फ्लाईओवर की मांग को लेकर उग्र आंदोलन के मूड में है। कुछ उत्साही युवकों ने इस मांग को लेकर आमरण अनशन करने की घोषणा भी कर दी है। पूर्व में भी फ्लाईओवर की मांग को लेकर नागरिक एसडीएम को ज्ञापन सौंप चुके हैं। इसके बावजूद भी इतने हादसे होने के बाद ना जिला प्रशासन द्वारा इस ओर कोई ध्यान दिया जा रहा है और ना ही स्थानीय प्रशासन द्वारा लोगो की सुरक्षा के इंतजाम किए गए वैकल्पिक व्यवस्था के इंतजाम भी नहीं किए गए

रिपोर्ट होकम मालवीय

Related Posts