करनैलगंज/गोंडा:- बरखोडिया मेलियाई का संक्रमण रोकने के लिए पशु चिकित्सा विभाग ने जांच अभियान जारी किया है। पशु चिकित्सा विभाग अलर्ट मोड़ पर आ गया है। जिले के करनैलगंज तहसील क्षेत्र में शुक्रवार को एक घोड़े में पाए गए बरखोडिया मेलियाई संक्रमण बीमारी की रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही उसे पशु चिकित्सा विभाग द्वारा जहर का इंजेक्शन देकर जमीन में दफन कर दिया था।
उस घोंड़े के संपर्क में आने वाले अश्व प्रजाति के अन्य पशुओं घोंडा, गधा, खच्चर आदि की सेंपलिंग लेने के लिए करनैलगंज क्षेत्र में शनिवार को पशु चिकित्सा विभाग की टीम ने ईंट भट्ठों व पालकों के घर पहुंची। तथा पशुओं के नमूने लेकर जांच के लिए एनआरसी हिसार भेजने की तैयारी में है।
शुक्रवार को बरखोडिया मेलियाई संक्रामक बीमारी से ग्रसित एक घोङे की जांच रिपोर्ट में पॉज़िटिव आई थी। जिसके कारण उसे जहरीला इंजेक्शन देकर कस्बे से बाहर सूनसान इलाके में दफनाना पड़ा था। यह संक्रमण ज्यादा न फैल सके, इसलिए स्थानीय प्रशासन ने अलर्ट जारी करते हुए सभी अश्व प्रजाति के पालतू जानवरों की चेकिंग के आदेश दिए हैं। इस मामले में खुद एनिमल हसबेंडरी डिपार्टमेंट फ्रंट-फुट पर आ गया है। आस-पास के सभी पालतू जानवरों की चेकिंग जारी है। घोड़ों के संपर्क में आने वाले लोगों की भी चेकिंग जारी है। उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. एसके तिवारी ने बताया कि पूरे जिले में यह अभियान चलाकर अश्व प्रजाति के पशुओं के नमूने संग्रहित किये जा रहे हैं। तथा पशुओं की नम्बरिंग कराई जा रही है। सैम्पल को एक साथ जांच के लिए हिसार स्थित एनआरसी लैब भेजा जाएगा।

रिपोर्ट राहुल तिवारी जिला संवाददाता गोंडा