गोंडा:- करनैलगंज कोतवाली में चार दिन बाद आखिर कोतवाल मिल ही गये मनकापुर कोतवाली मेंं तैनात कोतवाल मनीष जाट को स्थानांंतरित कर कोतवाली मेंं तैनाती दी गयी है,कोतवाली मेंं तैनाती को लेकर हो रहे विलम्भ से यह कयास लगाया जा रहा था की दो साल मेंं छ: कोतवाल बदलने को लेकर नवगात एस पी गम्भीर है।

“विलम्भ जरुर हो रहा है” लेकिन ईमानदार व मेहनतकश कोतवाल की ही तैनाती होगी, लेकिन चार दिन बाद वही हुआ जो एक कहावत है,” ढाक के चार पात” ही हाथ लगे पूर्व एसपी आर के नैय्यर के सिपहसालरो पर भरोसा जताते हुए मनीष जाट को एक बार फिर तैनाती दी गयी है ।

करनैलगंंज कोतवाली का इतिहास यह है कि दो वर्ष में 6 कोतवाल बदले जा चुके हैं। दो वर्ष पहले करनैलगंज कोतवाली में तैनात रहे कोतवाल वेद प्रकाश श्रीवास्तव के बाद लगातार कोतवाल की सीट अस्थिर बनी रही। वेद प्रकाश श्रीवास्तव दो वर्ष पहले हटाए गए। वे करीब डेढ़ वर्ष से अधिक समय तक यहां तैनात रहे।

उसके बाद अशोक कुमार सिंह को यहां का कोतवाल बनाया गया। जो फरवरी 2019 तक रहे, उसके बाद राजेश कुमार सिंह को कमान सौंपी गई। वह दिसंबर 19 तक रहे। उनके हटने के बाद के के राणा को तैनाती मिली। जो मात्र 4 महीने का कार्यकाल पूरा किए। केके राणा के हटने के बाद अपराध निरीक्षक रहे सुधीर कुमार सिंह ने एक माह कोतवाली का चार्ज देखा।

उसके बाद मई महीने में राजनाथ सिंह को करनैलगंज कोतवाली की कमान सौंपी गई थी। जिन्हें शुक्रवार की देर शाम पुलिस अधीक्षक ने निलंबित कर दिया। लगातार दो वर्ष से अस्थिरता के चलते लगातार यहां तैनात होने वाले प्रभारी निरीक्षकों की कुर्सी ड़गमगाती रही है। करनैलगंज में त्योहारों का दौर भी शुरू हो गया है।

ऐसे में जिले में सर्वाधिक अति संवेदनशील क्षेत्र होने के नाते नए कोतवाल की तैनाती चुनौतियों से भरी है । अब पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडेय पर करनैलगंज कोतवाली में ईमानदार, जुझारू एवं कर्तव्यनिष्ठ कोतवाल की तलाश चार दिन बाद पूरा करते हुए जहांं पर पूर्व एसपी राज करन नैय्यर के सिपहसलारो पर भरोसा जताते हुए आखिर कार मनीष जाट को कमान सौपी है।



रिपोर्ट राहुल तिवारी