लखनऊ। पंजाब के कुछ किसानों द्वारा केंद्रीय कृषि कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन पर विभिन्न राजनीतिक दलों ने रोटियाँ सेंकनी चालू कर दी है। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कृषि कानून के बहाने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पूंजीपति मित्रों की मदद को तत्पर केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार को अन्नदाताओं को परेशान करने की बजाय उनकी आय दोगुनी करने संबंधी कानून लाने पर विचार करना चाहिये ताकि वह अपने चुनावी वादे को पूरा कर सके।

पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार को कृषि कानून को वापस लेने के साथ अपने उस चुनावी वादे को भी निभाना चाहिये जिसमें उसने किसानो की आय दोगुनी करने का वादा किया था मगर आय दोगुनी करने की बात तो दूर, सरकार किसानो पर काला कानून लागू कर उनकी आर्थिक स्थिति और खराब करने पर तुली है। किसानों पर इतना अन्याय कभी नहीं हुआ। अपनी जायज मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसानों पर आंसू गैस छोड़ना, वाटर कैनन से पानी की बौछार करना और लाठियां बरसाना कहां की सभ्यता है। यह तो सरकार का आतंकी हमला है।

ALSO READ : कानपुर : पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने की पीड़ितों से बातचीत

उन्होने कहा कि भाजपा ने इन्हीं किसानों से वादा किया था कि उनकी आय दुगनी करेंगे। लागत का ड्योढ़ा मूल्य देंगे। इन वादों का क्या हुआ। भाजपा राज में धान की लूट हुई, किसान को न्यूनतम समर्थन मूल्य भी नहीं मिला। जेवर एयरपोर्ट में अधिग्रहीत जमीन को ऊसर बंजर बताकर किसानों को मुआवजा नहीं बंट रहा है। पंजाब, हरियाणा ही नहीं उत्तर प्रदेश के किसान भी भाजपा की कुनीतियों से आंदोलित और आक्रोशित है।

अखिलेश यादव ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था खस्ताहाल है। दुनिया में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी यहां है। हिरासत में मौतों के मामले में भी सबसे ऊपर हैं। निर्दोष लोगों पर झूठे केस लगाए जा रहे हैं। बाजार में शोषण है। नौजवान बर्बाद है। भाजपा बड़ा झूठ बोलती है। मुख्यमंत्री जी ने 10 हजार मेगावाट का सोलर एनर्जी प्लांट बनाने की घोषणा की है लेकिन कन्नौज में समाजवादी सरकार में पूर्व राष्ट्रपति डाॅ एपीजे अब्दुल कलाम की उपस्थिति में जो सोलर एनर्जी प्लांट लगा उससे किसान का ट्यूबवेल, चक्की और गांवों की बिजली आपूर्ति हो रही थी, भाजपा राज ने उसे बंद करा दिया।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि समाजवादी सरकार ने अपने कार्यकाल में सबसे ज्यादा लैपटाॅप बांटे, गरीबों को पेंशन दी, मेट्रो चलाई वह बस उतनी ही दूरी में चल रही है। झांसी, गोरखपुर में मेट्रो चलाने की घोषणा की गई थी, वह आज तक नहीं चली। भाजपा सरकार की विकास में कोई रूचि नहीं है।

वार्ता