नयी दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा पार्टी महासचिव प्रियंका वाड्रा ने कहा है कि देश के हर घर तक कोरोना वैक्सीन की पहुंच बनाने से ही महामारी पर विजय हासिल की जा सकती है लेकिन मोदी सरकार ने इसे कभी गंभीरता से नहीं लिया और यही वजह है कि देश मे निर्मित जिस टीके की कमी की हम आज किल्लत झेल रहे है उसके लिए विदेशों से पहले ही ऑर्डर मिल रहे थे और हमारी सरकार सोती रही।

वाड्रा ने कहा, “ भारत सबसे बड़ा वैक्सीन उत्पादक देश है। भाजपा सरकार ने 12 अप्रैल को टीका उत्सव मना दिया, लेकिन वैक्सीन की कोई व्यवस्था नहीं की और इन 30 दिनों में हमारे टीकाकरण में 82 प्रतिशत की गिरावट आई।”

उन्होंने आगे कहा, “ मोदी जी वैक्सीन फैक्ट्रियों में गए, फोटो भी खिंचाई मगर उनकी सरकार ने वैक्सीन का पहला ऑर्डर जनवरी 2021 में क्यों किया। अमेरिका और अन्य देशों ने हिंदुस्तानी वैक्सीन कंपनियों को बहुत पहले ऑर्डर दे रखा था। इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा। घर-घर वैक्सीन पहुंचाए बिना कोरोना से लड़ना असम्भव है।”

राहुल गांधी ने स्वास्थ्य कर्मियों के लिए सकारात्मक सोच विकसित करने सम्बंधी खबरों पर टिप्पणी करतर हुए कहा , “ सकारात्मक सोच की झूठी तसल्ली स्वास्थ्य कर्मचारियों एवं उन परिवारों के साथ मजाक है जिन्होंने अपनों को खोया है और ऑक्सीजन-अस्पताल-दवा की कमी झेल रहे हैं। रेत में सर डालना सकारात्मक नहीं, देशवासियों के साथ धोखा है।”

इससे पहले अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस पर उन्होंने नर्सो को समर्पण के साथ काम करने के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि जिस जज़्बे के साथ वे जान की परवाह किये बिना मानव सेवा कर रही हैं वह समर्पण के भाव से ही सम्भव हो सकता है।

वार्ता