राजस्थान के छोटे और सीमांत किसानों पर कोरोनावायरस के खतरे के प्रभाव को कम करने और संकटग्रस्‍त फसली मौसम के दौरान किसान समुदाय को सहायता पहुंचाने के उद्देश्‍य से, टैफे ने अपनीसामाजिकपहल (सी.एस.आर.) के तहत, अपने जेफार्म सर्विसेज प्‍लेटफॉर्म के माध्यम से मुफ़्तट्रैक्टर रेंटल योजना की घोषणा की, जो अप्रैल01, 2020 से शुरू होकर 90 दिनों की अवधि के लिए चालू रहेगी। यह योजना राजस्थान के 20 जिलों में उपलब्ध होगी।

इस पहल के तहत, टैफे ने अपने मैसी फर्ग्यूसन और आयशर ट्रैक्टरों कीएक बड़ी संख्याको उपलब्‍ध कराया है और फ्री ट्रैक्‍टर रेंटल यानी मुफ्त किराये के आधार पर बिना किसी क़ीमत या शुल्क के11,000 ट्रैक्टर और 50,000 उपकरणों की पेशकश करेगा। मैसी फर्ग्यूसन, आयशर ट्रैक्टर्स और उपकरणों को किराए पर देने वालों को सीधे कंपनी द्वारा भुगतान किया जाएगा।

किसान अपने ऑर्डर जेफार्म सर्विसेज मोबाइल ऐप या टोल-फ्री हेल्पलाइन 1800-4200-100 पर बुक कर सकते हैं। इसके अलावा, किसान राज्य भर में मौजूद इसके क्षेत्र अधिकारियों, डीलर नेटवर्क आदि जैसे विभिन्न ऑन-ग्राउंड माध्यमोंसेभी अपने ऑर्डर बुक कर सकते हैं, जो पहले से ही राजस्थान के किसान समुदाय के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

टैफे की चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर – मल्लिका श्रीनिवासन ने बताया कि,“राजस्थान सरकार ने कोविड-19 संकट के दौरान किसानों की जरूरतों के प्रति काफी संवेदनशीलता दिखाई है, और हम राजस्थान के छोटे तथा सीमांत किसानों की सहायता के उद्देश्‍य से मैसी फर्ग्यूसन और आयशर ट्रैक्टर की फ्री रेंटल सेवाओंकी पेशकश करने वाली टैफे की सामाजिकपहल (सी.एस.आर.)को स्वीकार करने के लिए सरकार के आभारी हैं। टैफे ने जेफार्म सर्विसेज प्लेटफॉर्म पर अपने मैसी फर्ग्यूसन और आयशर ट्रैक्टरों को पंजीकृत करने के लिए बड़ी संख्या में ग्राहकों को इकट्ठा किया है, ताकि रबी की फसल के दौरान राज्य के छोटे किसानों की कृषि मशीनीकरण की जरूरतों को पूरा किया जा सके।”

इस मौके पर, श्री नरेश पी. गंगवार, प्रमुख सचिव, कृषि विभाग, राजस्थान सरकार ने कहा,“ट्रैक्टर्सएंड फार्म इक्‍विपमेंट (टैफे) जैसे सामाजिक रूप से जिम्मेदार कंपनियोंको देखकर खुशी होती है,जो रबी के मौसम में, खासकर जब किसान कोविड-19 महामारी के कारण संकट का सामना कर रहे हैं, मैसी फर्ग्यूसन और आयशर ट्रैक्टरोंकोमुफ्त किराये पर देकर समय पर सहायता प्रदान कररहे हैं। राजस्थान सरकार इस महत्वपूर्ण मोड़ पर टैफे के प्रयासों का स्वागत करती है।”