हमीरपुर। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए पहली पंक्ति में जहां मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ लगा हुआ है। वहीं इस अभियान के सबसे निचली कड़ी के रूप में काम करने वाले सफाई कर्मियों की भूमिका भी कम महत्वपूर्ण नहीं है। कोरोना संक्रमण की चपेट में आने वालों की सूचना मिलने के साथ ही नगर पालिका की चार सदस्यीय टीम कोविड ग्रसित इलाकों और घरों में सेनेटाइज करने निकल पड़ती है। पिछले पांच माह से पालिका की यह टीम अभियान में शिद्दत से लगी हुई है। अच्छी बात यह है कि टीम का कोई भी सदस्य कोरोना के संक्रमण में नहीं आया। समय-समय पर इनकी जांच भी होती रहती है। 

नगर पालिका के सफाई कर्मचारी गोलू, सूरज, विशाल और मनोज की चार सदस्यीय टीम को लॉकडाउन के बाद से ही कोरोना ग्रसित इलाकों को सेनेटाइज करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। अप्रैल माह में जनपद में कोरोना ने दस्तक दी। इसके बाद से टीम सक्रिय हो गई। गोलू बताता है कि दिन भर होने वाली कोविड-19 की जांच के बाद दूसरे दिन उन्हें उन इलाकों और घरों की सूची मिल जाती है, जहां कोरोना ग्रसित मरीज हैं। इसके बाद से उनका काम शुरू हो जाता है। संबंधित घर और आसपास के पूरे इलाके को सेनेटाइज करते हैं। कहीं-कहीं अच्छा बर्ताव होता है तो कई बार उन्हें ऐसी स्थिति का भी सामना करना पड़ता है जो कि अच्छी नहीं होती। मसलन कोरोना ग्रसित मरीज के परिवार के सदस्य अपनी खीज उन पर उतार देते हैं। सूरज, विशाल और मनोज बताते हैं कि पांच माह से बगैर अवकाश लिए वह लोग कोरोना ग्रसित इलाकों में ड्यूटी कर रहे हैं। टैंकर में सेनेटाइज का घोल लेकर प्रभावित इलाकों में भ्रमण करते हैं। चार पिट्ठू वाली मशीनें भी हैं। संकरी गली-कूंचों में पिट्ठू वाली मशीन से काम लेते हैं। शुरुआत में थोड़ी दिक्कत हुई, लेकिन अब सब ठीक है। जितना कोरोना के बारे में जानते हैं, उतनी जानकारी लोगों को देकर इस बीमार से बचाव के प्रति जागरूक भी करते हैं। नगर पालिका अध्यक्ष कुलदीप निषाद ने बताया कि जब से शहर में कोरोना के मरीज मिलने शुरू हुए हैं, तब से उनकी टीम बिना रुके और बिना थके अपने काम को कर रही हैं। लोगों को नि:शुल्क मास्क और सेनेटाइज भी बांटे गए। सभी सफाई कर्मचारी और अन्य स्टाफ कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जी-जान से जुटे हुए हैं। समय-समय पर सभी सफाई कर्मियों के एंटीजन टेस्ट भी कराए जाते हैं। अभी तक कोई भी कर्मचारी संक्रमण की चपेट में नहीं आया है। पूरी एहतियात बरतते हुए इस काम को किया जा रहा है।