जालौन।प्रदेश के सभी जिलों में सीवियर एक्यूट रेस्परेटरी इलनेस (एस. ए. आर. आई.) और इंफ्लूएंजा लाइक इलनेस (आई.एल.आई) के रोगी जो कोविड 19 जांच में निगेटिव पाए गए हैं, उनकी क्षय रोग (टीबी) की जांच कराई जायेगी। इस संबंध में राज्य स्तर से प्रदेश के सभी जिला क्षय रोग अधिकारियों को पत्र भेजा गया है। जिसमें जिक्र है कि जनपद के जिला सर्विलेंस अधिकारी (आईडीएसपी) से कोविड 19 निगेटिव एसएआरआई (सारी) और आईएलआई की सूची प्राप्त कर उनकी टीबी की जांच कराना सुनिश्चित किया जाए।
जिला क्षय रोग अधिकारी डा. सुग्रीव बाबू ने बताया कि कोविड 19 और क्षय रोग के कई लक्षण सामान होते हैं। खांसी पीडि़त कई लोग संभावित क्षय रोगी भी हो सकते हैं जिनकी जनपद स्तर पर टीबी की जांच कराना आवश्यक है। शासन से आए पत्र में कहा गया है कि सारी के निगेटिव रिपोर्ट वालों की सूची प्रत्येक सप्ताह जिला सर्विलेंस अधिकारी से लेकर ऐसे रोगियों की बलगम की सीबीनाट से क्षय रोग की जांच करायी जाए। जरूरत पडऩे पर चेस्ट एक्सरे व अन्य जांच भी कराई जा सकती है। इसके अलावा आईएलआई के जिन मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आई है उनके घर संबंधित टीबी यूनिट के कर्मचारियों द्वारा भ्रमण कर वर्तमान में क्षय रोग के लक्षण बुखार, खांसी, वजन कम होना, रात्रि में पसीना आना, कांटेक्ट हिस्ट्री आदि की जानकारी प्राप्त की जाए। लक्षणों, क्षय रोगी से कांटेक्ट हिस्ट्री पाए जाने की दशा में उनके बलगम की सीबीनाट जांच व अन्य आवश्यक जांचें कराई जाएं। जांच में जिनमें भी क्षय रोग की पुष्टि होती है, उनका विवरण निक्षय पोर्टल पर पंजीकृत किया जाए। उन्होंने बताया कि इसके अलावा जो क्षय रोगी भी आते है, उनकी भी कोरोना संबंधी जांच कराई जाएगी।

रिपोर्ट- नसीम सिद्दीकी