NEWS KRANTI
Latest hindi News Website

- Advertisement -

- Advertisement -

फिर कोसी के प्रकोप का निशाना बना बिहार

67

बिहार:-प्रखंड के सलखुआ के कोसी नदी में उफान भले ही अब कुछ शांत हो गया हो परंतु बाढ़ के कारण आई मुसीबतें कम नहीं हो रही हैं. बाढ़ की तबाही व तेजी से बढ़ते कटाव के डर घोरमाहा के लोगों मैं बेचैनी है. ऐसे लोग अपनी जिंदगी को तो सुरक्षित तो कर रहे हैं परंतु भूख की मार से लोगों को मुट्ठीभर अनाज भी नही भा रहा है लोगों को कटाव की गति से काफी परेशानी व डर सता रहा है. आशियाना के नाम पर ऐसे लोगों को  चारदीवारी से बने छत छोड़ने को व सर छिपाने के लिए फूस व पॉलीथिन कम पड़ रहे हैं. इस वर्ष कोसी की पानी व  बाढ़ ने अभूतपूर्व कहर बरपाया है.घोरमाहा में बढ़ती कटाव का कहर सुरु हो गया है.

प्रखंड के कई अधिकारी व खगड़िया के लोकशभा क्षेत्र के चौधरी मेहबूब अली केसर भी इस कटाव को देखकर दंग रह गए व बचाव के लिए पूरी कोसिस की जाने के लिए कार्य भी करवायें. परंतु इन गरीबों के अश्यानो  भोजन और रहने की चर्चा तक नही की. राजद संघ के प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष व मुखिया संघ के अध्यक्ष मिथिलेश विजय ने कटाव को देखने के बाद जनप्रतिनिधियों से आग्रह किया व वीआईपी के द्वारा सरकार को ध्यान आकृष्ट करने के लिये हर सम्भव प्रयास किये जाने के लिए हमेशा तैयार रहने व हर सम्भव मदद देने की बात मिथिलेश विजय ने बताया. मुखिया संघ के अध्यक्ष मिथिलेश विजय ने सन ऑफ मल्लाह मुकेश सहनी की अगुवाई मैं 500 पेटी राहत सामग्री बितरण किया गया. सलखुआ के क्षेत्रीय लोगों पर कोसी नदियों ने जमकर कहर बरपाया है. प्रखंड के घोरमाहा में कोसी नदी की धार तो कहर छाया है.

- Advertisement -

आज भी इस गांव के लोग नदियों की गहरी सैकड़ो फुट पानी में नाव के सहारे चिरैया अलानी व धाप नाव से जान को जोखिम में डालकर पार करते है व अपनी जिंदगी की गाड़ी किसी तरह खींच रहे हैं.
विगत वर्ष बाढ़ का पानी कई गांव पिपरा, मियाजागिर, कमराडीह के परिवार की झोपड़ियां व पक्के मकान बहा ले गया, तब से अब तक इन परिवारों की जिंदगी खानाबदोश वाली होकर रह गई है. जिला राजद अध्यक्ष व मुखिया संघ के अध्यक्ष मिथिलेश विजय के राहत कोष द्वारा कटाव को देखकर राहत सामग्रियों का वीआईपी के कार्यक्रताओं से करीबन 500 पेटी बंटवाया. राजद अध्यक्ष मिथलेश विजय ने कहा कि पूर्वी कोसी तटबंध नदी के तट पर बसे घोरमाहा गांव में कटाव इसी तरह तेज रहा तो हजारों परिवार के लोगों का नदी सब कुछ उजाड़  देगा. कई बुजुर्गों ने कहा कि हम लोग तटबंध पर अपने घर को छोड़कर नदी के किनारे हर वक़्त प्रार्थना व यही आस लेकर झोपड़ी बनाकर गुजर बसर कर रहे हैं. राहत सामग्रियों के वितरण मैं वीआईपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बेधनाथ सहनी, प्रदेश महासचिव भोगी सहनी, जिलाध्यक्ष दिनेश निषाद, उटेशरा के मुखिया अनिल कुमार यादव उर्फ महंथ जी, समाजसेवी सुनील कुमार, राजद के पुलकित प्रसाद यादव, जयप्रकाश चौधरी, पूर्व सरपंच लक्षेन्द्र सिंह, बिन्दी  प्रसाद सिंह बहुअरवा निवासी व अन्य जनप्रतिनिधि ने अपना विशेष योगदान देकर राहत सामग्रियों का वितरण किया।

खबर-गोपाल कृष्ण

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.