गोंडा। छात्र नेता अंकित शुक्ला के द्वारा विधानसभा के अंतर्गत कौड़िया कस्बा जिसकी आबादी बहुत ज्यादा है। तब भी प्रांत सरकारी योजना से वंचित है एक छोटा सा राजकीय होम्योपैथिक अस्पताल था। जिसकी भवन काफी जर्जर थी। उसको प्रशासन से बनवाने की मांग की गई तब जिला प्रशासन के द्वारा उसको हटा दिया गया। जिसमें प्रतिदिन लगभग दो ढाई सौ मरीज देखे जाते थे। जिसके लेकर हमारे द्वारा प्रशासन को सैकड़ों बार प्रार्थना पत्र दिया गया। परंतु कोई कार्य नहीं हुआ 20 सितंबर को शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन करके माननीय जिलाधिकारी को पत्र तहसीलदार महोदय के द्वारा भेजा गया था। परंतु अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। इसलिए मैं कल यूपी के मुख्यमंत्री से मिलकर क्षेत्र की जन समस्या को उनके सामने रखूंगा। अपने क्षेत्र वासियों के साथ और जिला प्रशासन से भी हमारा अनुरोध है की माननीय मुख्यमंत्री जी से मिलने के लिए उचित समय दिलवाने का कष्ट करें। जिससे अपने क्षेत्र की समस्याओं को बताया जा सके। इतना बड़ा कस्बा होने के पश्चात भी ना कोई अस्पताल है ना कोई फैक्ट्री है। नहीं ही अभी कौड़िया को नगर पंचायत का दर्जा मिला। इससे यही साबित होता है कि जिला प्रशासन क्षेत्र की जनता के स्वास्थ के प्रति कितना जागरूक है। और कितना नही ये साफ साफ देखा जा सकता है।

और छात्र नेता अंकित शुक्ला ये भी कहा

कि मैं अपने क्षेत्र की जनता के स्वास्थ्य के साथ जिला प्रशासन को खिलवाड़ नहीं करने दूंगा।

रिपोर्ट राहुल तिवारी