गोण्डा:- जिस खाकी पर समाज तथा महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी होती है। वही खाकी आज लोगों के बीच कलंकित हो गयी, जब एक महिला आरक्षी के साथ कांस्टेबल ने ही रेप की घटना को अंजाम दे दिया। खाकी उस समय शर्मसार हो गई जब पुलिस के एक जवान ने हैवानियत को पार करते हुए रेप की वारदात को अंजाम दे दिया। रक्षक के रूप में भक्षक बनकर घटना को कारित करने वाला कोई और नहीं, बल्कि गोण्डा रिजर्व पुलिस में तैनात एक सिपाही है।

पुलिस डिपार्टमेंट में भूचाल

खाकी वर्दी पर संगीन आरोप लगाकर उसे ही न्याय के कटघरे में खड़ा करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसी विभाग में तैनात महिला कान्स्टेबल है, जिसने अपने साथ एक पुरूष आरक्षी द्वारा रेप करने का आरोप लगाकर गोण्डा पुलिस डिपार्टमेंट में भूचाल ला दिया है।

शिकायत पर तीन दिन बाद आरोपी सिपाही के विरूद्ध दर्ज हुई एफआईआर

महिला आरक्षी ने आरोप लगाया है कि गोण्डा पुलिस लाइन में तैनात 2018 बैच का अंकित राय नाम का सिपाही ने फोन करके कमरा दिखाने के बहाने बुलाकर उसे कमरे में ढकेल दिया और मुंह में कपड़ा बांधकर रेप की घटना को अंजाम दिया। पीड़िता ने इसकी सूचना अपने परिजनों को दी। परिजनों ने इसकी शिकायत उच्चाधिकारियों से की, जिसके तीन दिन बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया। पीड़ित महिला कांस्टेबल के परिजनों का आरोप है कि मामले को पुलिस रफा दफा करने में लगी रही।

सवालों में घिरी खाकी वर्दी

सबसे बड़ा सवाल यह है कि नारी सशक्तिकरण की चाहे जितनी बड़ी बड़ी बातें व दावे भी करें, लेकिन जब आज खाकी वर्दीधारी महिला ही सुरक्षित नहीं है तो आम महिलाओं का क्या हाल होगा? जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो लोगों का कानून पर विश्वास कैसे कायम रहेगा? बहरहाल, इसका जवाब पुलिस ही दे सकती है।इस घटना के संबंध में मीडिया से बातचीत करते हुए एएसपी गोण्डा महेंद्र कुमार ने कहा कि एक महिला ने पुलिस आरक्षी पर रेप जैसा संगीन आरोप लगाया है। मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जांंच करके आगे की कार्यवाही की जाएगी।

रिपोर्ट राहुल तिवारी जिला संवाददाता गोंडा