ग्राम रोजगार सेवक के भ्रष्टाचार से तंग ग्रामीणों ने सौंपा जिलाधिकारी को शिकायती पत्र

by News Desk
23 views

मैनपुरी :- उत्तर प्रदेश की योगी सरकार देखा जाए तो बड़े-बड़े वायदे करती है भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने का वादा करती है लेकिन ग्राउंड जीरो पर देखा जाए तो भ्रष्टाचार अपने चरम पर है ऐसा भ्रष्टाचार जो पहले कभी देखने को नहीं मिलता था लेकिन अब आए दिन भ्रष्टाचार की पोल खुलती नजर आती है। ऐसा ही भ्रष्टाचार से जुड़ा एक मामला है उत्तर प्रदेश के जनपद मैनपुरी के विकासखंड किशनी अंतर्गत ग्राम सभा पहाड़पुर का जहां एक रोजगार सेवक प्रमोद कुमार ग्रामीणों का जमकर शोषण कर रहा है, और ग्रामीण अगर शिकायत करने की बात करते हैं तो उन्हें कुछ ना करा पाने की धमकी भी दी जाती है।

उसी रोजगार सेवक की भ्रष्टाचार की एक कहानी आपको बताने जा रहे हैं जिसमें रोजगार सेवक ने काफी ग्रामीणों के पैसों का गबन किया है लॉकडाउन के समय हुए मनरेगा के कार्य का कोई भी भुगतान नहीं किया और सारा पैसा ऐंठ गया। ग्रामीणों का कहना है जो लोग काम नहीं करते हैं उनके खातों में फर्जी तरीके से पैसा ट्रांसफर किया जाता है और 200 या ₹500 देकर उन लोगों से पैसा निकलवा कर अपने पास रख लेता है जो लोग वास्तविक काम करते हैं उनके पैसे का कोई अता पता नहीं है भ्रष्टाचार की हद अभी यहीं खत्म नहीं होती प्रधानमंत्री स्वच्छ शौचालय योजना के तहत कुछ लोगों का पैसा सांठगांठ करके निकाल लिया गया और उन लोगो से कह दिया गया कि अभी आपका पैसा आया नहीं है। प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर तो भारी लूट देखने को मिली है.

जिसमें एक एक आवास पर एक-एक लाभार्थी से 15 से 20 हजार रुपए तक का लेनदेन हुआ है इसी भ्रष्टाचार से आहत ग्रामीणों ने जिला मुख्यालय मैनपुरी स्थित कलेक्ट्रेट पहुंचकर जिलाधिकारी श्री महेंद्र बहादुर सिंह को शिकायती पत्र सौंपा शिकायती पत्र में उन्होंने लिखा महोदय इस ग्राम पंचायत की जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कठोर से कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाए।

रिपोर्ट – दिलशाद अहमद

Related Posts