निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मियों ने निकाला जुलूस

by nikhil

गोरखपुर :- विद्युत विभाग का पूरी तरह से निजी करण किए जाने के विरोध में विद्युत कर्मचारियों ने सोमवार को मुख्य अभियंता विद्युत कार्यालय से विरोध स्वरूप मशाल जुलूस निकालकर निजीकरण के विरोध में नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया।

मशाल जुलूस भ्रमण के बाद पुनः मुख्य अभियंता विद्युत कार्यालय पर आकर समापन को प्राप्त हुआ उसके बाद उपस्थित कर्मचारियों को संबोधित करते हुए विद्युत कर्मचारी नेताओं ने कहा कि किसी भी कीमत पर निजी करण स्वीकार नहीं किया जाएगा निजीकरण के विरोध में आंदोलन अनवरत जारी रहेगा जब तक कि निजी करण किए जाने का निर्णय वापस नहीं ले लिया जाता है।


विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति और विद्युत परिषद जूनियर संगठन उत्तर प्रदेश के केंद्रीय नेतृत्व के आह्वान पर जनपद से सभी खंडों विद्युत वितरण खंड प्रथम/द्वितीय/कौड़ीराम/शिकरीगंज/चौरीचौरा/कैम्पियरगंज,विद्युत नगरीय वितरण खंड प्रथम/द्वतीय/तृतीय/चतुर्थ/ विद्युत परीक्षण खंड प्रथम/द्वितीय,विद्युत नगरीय परीक्षण खंड,विद्युत नगरी निर्माण खंड, विद्युत माध्यमिक कार्य खंड,विद्युत कार्यशाला खंड,विद्युत भंडार खंड ,विद्युत प्रेषण खंड प्रथम/द्वितीय,विद्युत परीक्षण खंड प्रथम/द्वितीय,विद्युत प्रेषण जानपद खंड,विद्युत वितरण जानपद खंड जनपद गोरखपुर में जूनियर इंजीनियर संगठन के सदस्यों अवर अभियंता एवं प्रोन्नत अभियंताओं ने सामूहिक रूप से जूनियर इंजीनियर संगठन की लंबित मांगो एवं समस्याओं को लेकर शाम 3:00 बजे से 5:00 बजे तक विरोध प्रदर्शन कियाएवं अधिशासी अभियंता के माध्यम से अध्यक्ष उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड शक्ति भवन लखनऊ को ज्ञापन प्रेषित किया गया । जिसके प्रमुख बिंदु हैं।


जूनियर संगठन ने मांग पत्र में उत्तर प्रदेश सरकार एवं शीर्ष ऊर्जा प्रबंधन से पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण का फैसला वापस लेने के लिए मांग किया किया और साथ में साथ ही साथ पूजा प्रबंधन से बेहतर उपभोक्ताओं की सेवा सुनिश्चित करने के लिए *निजी करण के बजाय नवीनीकरणकरने पर जोर दिया।


जूनियर इंजीनियर संगठन ने मांग किया कि ₹4800 ग्रेड पे जोकि पावर कारपोरेशन में नान फंक्शनल है उसको कारपोरेशन के पे- स्ट्रक्चर से विलुप्तकिया जाए।

जूनियर इंजीनियर से प्रोन्नत सहायक अभियंताओं का तृतीय समयबद्ध वेतनमान ग्रेड पे ₹8700/- पर दो वेतन वृद्धि सीधी भर्ती से आए हुए सहायक अभियंताओं की भांति प्रदान किया जाए।


अवर अभियंता से प्रोन्नत अभियंताओं का तृतीय ए०सी०पी० का आदेश जारी होने के बावजूद लगभग 7 माह बाद भी वेतन प्राधिकार पत्र आज तक निर्गत नहीं किया गया जिसको तत्काल निर्गत कराया जाए।
जूनियर इंजीनियर संगठन ने मांग किया कि अवर अभियंताओं को मिलने वाला वेतन,ग्रेड पे ₹4600 छठे वेतन आयोग लागू होने की प्रारंभिक तिथि 1 जनवरी 2006 से लागू किया जाए।


कर्मचारियों के वेतन से कटौती की गई सी०पी०एफ०मद की धनराशि का सी०पी०एफ० स्लिप तत्काल जारी कराया जाए।
उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन के शीर्ष ऊर्जा प्रबंधन द्वारा *अवर अभियंताओं एवं सहायक अभियंताओं के जारी किए गए अव्यावहारिक नए ए०सी०आर० प्रारूप में संशोधन किया जाए।


कर्मचारियों को मिलने वाली पुरानी पेंशन योजना बहाल किया जाए।
दीपक गुप्ता जनपद सचिव
राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर संगठन उत्तर प्रदेश जनपद शाखा के माध्यम से यह जानकारी प्राप्त हुई।

रिपोर्ट शशांक सक्सेना

Related Posts