कानपुर। लॉकडाउन के दौरान शराब बंदी के लिये जहां एक ओर पुलिस भरपूर सख्ती के दावे कर रही है, वहीं गोरख धंधा करने वाले विभिन्‍न प्रकार के जुगाड़ से शराब की सप्लाई में जुटे हैं। ताजा मामला पांंडू नगर इलाके का है , जहाँ फेसबुक पर प्रचार करके ऑनलाइन पेमेन्‍ट लेकर शराब की होम डिलीवरी करवाने का काम हो रहा है।
वहीं सूत्रों की माने तो कानपुर में कुछ जुगाडू लोग दारू की सप्लाई खाने के पैकेटों में छुपा के कर रहे हैं, वहीं कुछ लोग राशन के थैलों की जगह दारू ले जा रहे हैं।

एक श्रीमान तो बाकायदा फेसबुक पर प्रचार करके ऑनलाइन पेमेन्‍ट लेकर शराब की डिलीवरी कर रहे हैं। इसमें पहले ऑनलाइन खाते में पैसे डालने पड़ते है। दारू के दीवानों को न कोरोना का डर है और न पुलिस की फिक्र।  इस अवैध बिक्री में न तो हैण्‍ड सेनीटाइज करने की मांग होती है और न सोशल डिस्‍टैन्‍स की, इन्‍हें जरूरत है तो सिर्फ अंगूर की बेटी कहलाने वाली शराब की।

वहीं इस प्रकार की बिक्री को रोकना आमतौर पर पुलिस के लिये बड़ा चैलेन्‍ज साबित होता जा रहा है। दरअसल ये मामला शराब बिक्री के अलावा ऑनलाइन ठगी का भी हो सकता है। जब इंस्पेक्टर काकादेव कौशल किशोर को मामले की जानकारी हुई तो उन्होंने तत्परतापूर्वक मामले की सघन जांच प्रारम्‍भ कर दी। चूंकि‍ मामला साइबर क्राइम से भी जुड़ा हुआ है इसलिये मामले की जानकारी तत्‍काल एसपी वेस्ट और जिलाधिकारी को दी है और फेसबुक पर दिए हुए नंबर को सर्विलांस पर लगाने की बात कही है।

  • कैसे होता है सारा खेल
    आपको बता दें कि फेसबुक पर शराब खरीदने के लिए मोबाइल नम्बर डाला गया है। पहले नंबर पर कॉल कर लोकेशन बतानी पड़ती है और ऑनलाइन खाते में पैसा ट्रांसफर करना पड़ता है। लेकिन उसके बाद भी शराब आएगी की नही इसकी गारंटी नही होती है। तभी इस मामले को साइबर ठगी से भी जोड़ कर देखा जा रहा है।
  • कौस्तुभ शंकर मिश्रा