लखीमपुर -खीरी :- सम्पूर्णानगर खजुरिया,
ग्राम सभा भानपुरी कालोनी के विरासत/धरोहर को समाज के जो जीवन्त लोग है वह भी गाँव के धरोहर को बचा नही पा रहे है। मामला गाँव के सिद्ध बाबा मन्दिर जिला खीरी के परिसर का है।

कुछ दिनों पहले पड़ोसी जनपद पीलीभीत हजारा के गांव सिद्धनगर के प्रधान द्वारा अवैध रूप से कब्जा कर सार्वजनिक शौचालय बनवाया जा रहा था।जिसकी शिकायत भानपुरी के जागरूक नागरिक कुतुबुद्दीन अंसारी ने शासन से की तो लेखपाल ने पीलीभीत जिले के प्रधान द्वारा खेती की जमीन पर हो रहे निर्माण कार्य को रुकवा दिया था।

परंतु वर्तमान में पड़ोसी जिले की साधन सहकारी समिति के सचिव द्वारा मंदिर परिसर की भूमि पर चहारदीवारी का निर्माण कराया जा रहा है। ताज्जुब की बात है कि ग्राम सभा भूमिप्रबन्धन समिति का अध्यक्ष ग्राम प्रधान होता है परंतु अपने कर्तव्यो का निर्वहन न कर।खाली पद के लोभ में पड़े हुए ।

भानपुरी प्रधान को यह सब नहीं दिख रहा है।प्रधानी का चुनाव नजदीक होने के कारण चुप्पी साधे हैं ।बताते चले की उपरोक्त की पूरी जिम्मेदारी ग्राम प्रधान व लेखपाल की है।प्रतीत ऐसा होता की इन लोगो की मिलीभगत से उपरोक्त कार्य को अन्जाम दिया जा रहा है।

इस प्रकरण की शिकायत अपने ग्राम समाज के हितों के प्रति जागरूक नागरिक कुतुबुद्दीन अंसारी ने एक बार फिर इस नए प्रकरण की शिकायत मुख्यमंत्री हेल्प डेस्क पर शिकायत संख्या 92115300002691 आज दिनांक 14 जनवरी को की थी जिस पर आज शुक्रवार को क्षेत्रीय लेखपाल शैलेंद्र सिंह मौके पर जाकर चहारदीवारी निर्माण हेतु हो रहे कार्य को रुकवा दिया है।

इस दौरान मौके पर भानपुरी खजुरिया के पूर्व प्रधान प्रभुनाथ, ओमप्रकाश कनौजिया, सरफराज अंसारी, संजय शर्मा, सुनील सिंह, जयप्रकाश मौर्य, बकरीद अंसारी, हरे राम साहनी, श्री किशन आदि लोग मौजूद रहे वही चारदीवारी निर्माण करवा रहे किसान सहकारी समिति हजारा पीलीभीत के प्रभारी एवं सचिव तथा समिति के अध्यक्ष मायाराम कनौजिया भी मौजूद रहे। यह भी बता दें सिद्ध बाबा मंदिर परिसर की भूमि जोकि जिला खीरी क्षेत्र में आती है।

यह जानकारी होने के बावजूद पहले तो पड़ोसी जनपद सिद्ध नगर प्रधान द्वारा सर्वजनिक सोचालय का निर्माण कार्य करने का प्रयास किया गया अब साधन सहकारी विभाग द्वारा हो रहे निर्माण कार्य को लेखपाल ने रुकवा दिया मंदिर परिसर की भूमि पर मंदिर कमेटी के अलावा कोई और निर्माण कार्य करवाने का प्रयास क्यों कर रहा है यह बात समझ से परे है।तहासिल प्रशासन ऐसे लोगों पर सख्त कार्यवाही क्यों नहीं कर रहा यह समझ से परे है।

रिपोर्ट गोविंद कुमार