लखीमपुर- खीरी :- सम्पूर्णा नगर वन प्रभाग उत्तर खीरी सम्पूर्णनानगर वन बीट क्षेत्र के अंतर्गत धनाराघाट पर नहरोसा निवासी इकराम पुत्र हाशिम की गौड़ी (पशुशाला) है। जहां कासिम उर्फ कल्लू पुत्र अनवर ग्राम मैलानी जिला लखीमपुर खीरी निवासी जो कि गौड़ी पर रहकर मजदूरी करता था।


25 जनवरी दिन सोमवार को गौड़ी के पास हजारा जनपद पीलीभीत निवासी रामलखन नामक व्यक्ति के खेत पर कासिम अपने दो साथियों के साथ गन्ना छीलकर चारा बना रहा था। इसी दौरान लगभग 10:40 बजे गन्ने के खेत में छिपा बैठा जंगली पशु बाघ ने अचानक कासिम पर हमला कर घायल कर दिया और गन्ने के खेतों में खींच कर ले गया। इस पर साथ में काम कर रहे ग्रामीणों ने शोर मचाना शुरू कर दिया।


इस घटना को देख अन्य लोगों ने शोर मचाना शुरू कर दिया शोर सुनकर आस पास खेतों में काम कर रहे ग्रामीण ट्रेक्टरों सहित पहुंच गए। इस समयावधि में बाघ कासिम को गन्ने के खेत में अंदर घसीट ले गया था।लोगों ने ट्रैक्टर से ही गन्ने के खेतों में कासिम की खोजबीन करने लगे इसी बीच अज्ञात ट्रैक्टर चालक कासिम को ढूढ़ ही रहा था।

तभी ट्रैक्टर की आवाज तथा लोगों का शोर सुनकर कासिम के शव के साथ गन्ने में छुपा बैठा शेर उसे छोड़कर भाग गया निकला। इसी बीच मामले की सूचना ग्रामीणों ने वन विभाग सम्पूर्णनानगर के वन संरक्षक प्रभारी आरपी सिंह रौतेला, वन दरोगा पुष्कर सिंह अपनी एस टी पीएफ टीम के साथ घटना स्थल पर पहुंच गए घटना की जानकारी थाना हजारा पुलिस को किसी ने दी तो थाना प्रभारी उमेश सिंह सोलंकी भी एसआई दिलेराम पाल सहित पुलिस कर्मियों के साथ मौके पर पहुंच कर मृतक काशिम के शव का पंचनामा भरकर अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु जिला अस्पताल पीलीभीत भेज दिया।



आये दिन बाघ के आतंक से सम्पूर्णानगर एवं हजारा के शारदा क्षेत्र में काफी दहशत का माहौल बना हुआ है।

यह भी बता दें अभी पिछले सप्ताह ही सम्पूर्णानगर वनविभाग के एक दरोगा को ही बाघ ने पैर में पंजा मार दिया था। इस घटना में दरोगा बाल बाल बच गए थे। जैसे जैसे जंगल का दायरा सिकुड़ता जा रहा है वैसे वैसे जंगली पशु खेतों तथा आबादी के करीब आते जा रहे हैं। जिससे आये दिन जानमाल की हानि हो रही है। फिलहाल मौके पर पहुंचे वन रक्षक रौतेला ने मृतक के परिवार को सरकारी सहायता दिलवाने की बात कही है।



रिपोर्ट-गोविन्द कुमार