कौशाम्बी :- ग्राम पंचायत के जिम्मेदार सरकारी इमारतों को लेकर कितना संजीदा हैं इसका अंदाजा ग्राम पंचायत इटैला में बने मिनी सचिवालय की तस्वीर देखकर किया जा सकता है।
कौशांबी विकासखंड के ग्राम पंचायत इटैला में 15 वर्ष पूर्व एक ही छत के नीचे की ग्रामीणों को बुनियादी सुविधाओ के लिए 12 लाख की लागत से मिनी सचिवालय का निर्माण कराया गया था।

मिनी सचिवालय में ग्राम प्रधान एवं सचिव के बैठने के लिए ऑफिस ग्राम पंचायत के खुली बैठक के लिए हाल एवं शौचालय, स्नान घर ,पेयजल आदि का सुविधा की गई थी लेकिन गांव के जानकारों का कहना है मिनी सचिवालय में 1 दिन भी प्रधान व सचिव नहीं बैठे ना ही एक भी खुली बैठक हुई और पूरी इमारत बिना देखरेख के अभाव में खंडहर हो गई।

यहां लगी खिड़की, दरवाजा, गेट आदि टूटकर उखड़ चुके हैं ग्रामीणों का कहना है कि जिस उद्देश्य से भवन का निर्माण कराया गया था यदि इसमें ग्राम पंचायत के जिम्मेदार बैठकर काम करते तो शायद यह इमारत बदहाल ना होती और ग्रामीणों को एक ही छत के नीचे पूरी सुविधा का लाभ मिलता।







ढूडे नहीं मिलते पंचायत सचिव
कौशांबी विकास खंड कार्यालय में सचिवों को गांव में बैठने के लिए रोस्टर तैयार किया गया है एक सचिव के पास कई गांव का प्रभार होने कारण गांव में जाने का रोस्टर तैयार किया गया है लेकिन सचिव गांव ना जाकर ब्लॉक मे हफ्ते में एक दो दिन ही मिल पाते हैं ग्रामीणों को अपने जरूरी काम को लेकर सचिवों को ढूंढने के लिए ब्लॉक का चक्कर लगाना पड़ता है।


रिपोर्ट श्रीकांत यादव