गोण्डा:- जिले के खरगूपुर थाना क्षेत्र के पचरुखी मनोहर जोत गांव निवासी तीन किशोर बुधवार को मध्यान्ह बिसुही नदी में उस समय डूब गए, जब वे नहाने के उद्देश्य से नदी में कूद गए थे। सूचना पाकर मौके पर पहुंचे पुलिस व प्रशासन के अधिकारी तथा गोताखोरों की मदद से शवों की तलाश करवा रहे हैं।गोण्डा सदर तहसील के एसडीएम सदर सूरज पटेल ने बताया कि घाघरा, मनवर व कुआनो नदियों का जलस्तर बढ़ने से बिसुही नदी में उल्टा प्रवाह के कारण जिले के इटियाथोक व रुपईडीह विकास खण्डों के लगभग 40 गांवों में जल प्लावन की स्थिति पैदा हो गई है। बुधवार को मध्यान्ह तीन बच्चे विक्रांत कुमार वर्मा (12) पुत्र तिलकराम, छोटेलाल (12) पुत्र पवन यादव तथा आनंद कुमार मिश्र (15) पुत्र सुरेश मिश्र कोटेदार के यहां से राशन लाने के लिए घर से निकले थे। रास्ते में भोलाजोत गांव के पास बिसुही नदी में आई बाढ़ के पानी में उतरकर नहाने लगे। नदी में अधिक पानी होने के कारण तीनों पानी में डूब गए। घटना की जानकारी होने पर आसपास के लोगों द्वारा नदी में किशोरों को ढूंढने का प्रयास किया गया, किन्तु करीब तीन घंटे तक किशोरों का पता नहीं चल सका। इसके बाद प्रशासन ने नवाबगंज से गोताखोरों की टीम को बुलवाकर बच्चों की तलाश शुरू करवा दी है। समाचार लिखे जाने तक बच्चों का शव बरामद नहीं हो सका था। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट सूरज पटेल ने बताया कि मृतक बच्चों के परिजनों को आपदा निधि के तहत अनुमन्य सहायता प्रदान की जाएगी। गांव के तीन किशोरों के एक साथ नदी में डूब जाने से गांव में हाहाकार मच गया। घटना की जानकारी मिलते ही तत्काल पहुंचे कटरा विधानसभा के युवा भाजपा नेता विनोद कुमार शुक्ला ने पहुंच कर हर संभव अधिकारियों से मदद कराने को परिवार को आश्वासन दिया है, प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सोनकर सहित पुलिस एवं राजस्व विभाग के अधिकारी व कर्मचारी मौके पर मौजूद ।

रिपोर्ट राहुल तिवारी