कोरोना की मार के बीच केंद्र सरकार ने सांसद निधि को 2 साल के लिए खत्म करने का निर्णय लिया है। इस बीच सलेमपुर के भाजपा सांसद रवींद्र कुशवाहा ने सांसद निधि को स्थाई तौर पर समाप्त करने की मांग की है। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि सांसद विकास निधि को स्थाई तौर से समाप्त कर इस धन का प्रयोग जनहित कार्यों में किया जाना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने इस निधि का उपयोग स्वास्थ्य सम्बन्धी आधारभूत ढांचे के विकास पर खर्च करने की मांग की।

गौरतलब है कि इससे पहले सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केंद्र सरकार के फैसलों की जानकारी देते हुए बताया था कि सरकार ने अध्याधेश जारी कर सांसदों की सैलरी का 30 प्रतिशत भाग काटने और दो साल के लिए सांसद विकास निधि रोकने का निर्णय लिया था। इसके साथ ही राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति सहित सभी राज्यों के राज्यपालों ने स्वेच्छा से अपनी सैलरी का 30 प्रतिशत भाग ने लेने का फैसला लिया है।