भुखमरी के कगार पर पहुंचे निजी स्कूलों के प्रबंधक व शिक्षक :डॉ आशुतोष

by anil
68 views

बलरामपुर। कोरोना ने जहां आम जनजीवन को बुरी तरह से प्रभावित किया है वही इसकी चपेट में आए निजी स्कूलों के प्रबंधकों की कमर तोड़ कर रख दी है एक तरफ जहां प्रबंधक स्कूलों के ताले नहीं खोल सका है वहीं दूसरी तरफ शिक्षक कर्मचारियों के वेतन देने की समस्या दिन रात उसे खाए जा रही है यह बातें उत्तर प्रदेश वित्तविहीन विद्यालय प्रबंधक संघ द्वारा आयोजित वात्सल्य पब्लिक स्कूल पहलवारा में संघ के बैठक में जिला संरक्षक डॉ अविनाश पांडेय व जिला संयोजक आशीष उपाध्याय ने संयुक्त रुप से ने व्यक्त की है
बैठक को संबोधित करते हुए जिला संयोजक आशीष उपाध्याय ने कहा करीब 6 माह से निजी स्कूलों के बंद होने से प्रबंधकों का बुरा हाल है स्कूलों मैं आमदनी ना होने से शिक्षक कर्मचारियों को वेतन देने में लाले पड़े हुए हैं जिला अध्यक्ष श्रवण शुक्ला ने कहा कि सरकार जहां एक तरफ कोरोनावायरस महामारी से सबकी मदद कर रही है वही वित्तविहीन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षक कर्मचारी व प्रबंधकों को आर्थिक सहयोग ना देकर उनका उपहास कर रही है जिला सचिव डॉ आशुतोष प्रसाद शुक्ला ने कहा की निजी स्कूलों के शिक्षक स्कूल बंद होने के कारण भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं उनकी पीड़ा सुनने वाला कोई नहीं है जिला उपाध्यक्ष विजय कुमार पांडे ने कहा कि सरकार शिक्षक कर्मचारियों की समस्याओं को देखते हुए भी ध्यान ना देना उनके जीविका के साथ क्रूर मजाक कर रही है संघ के पदाधिकारी व किड्जी एवं जेनिथ इंटरनेशनल कॉलेज के प्रबंधक राजा अग्रवाल एवं एनी बेसेंट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के प्रबंधक शमशी अहमद ने संयुक्त रूप से कहा कि आज निजी स्कूलों के शिक्षक कर्मचारी व प्रबंधक जिस विपरीत दौर से गुजर रहे हैं उसका अंदाजा शायद सरकार को नहीं है पढ़ा-लिखा जमात होने के कारण स्कूल बंद होने से शिक्षक कर्मचारी भूख और सोने को विवश हैं ऐसे में सरकार का ध्यान ना जाना इनके साथ कुठाराघात से कम नहीं है बैठक को संगठन मंत्री डीपी गुप्ता एवं संयुक्त मंत्री राजीव गुलाटी ने कहा कि वित्तविहीन विद्यालय प्रबंधक संघ जब तक निजी स्कूलों को सरकार इस महामारी में आर्थिक मदद नहीं देती है तब तक अपने अधिकारों की मांग करता रहेगा इस दौरान यदि कोई निजी स्कूल का शिक्षक प्रबंधक व कर्मचारी के साथ कोई भूख अथवा बेरोजगारी से से दुर्घटना घटित होती है तो उसका जिम्मेदार शासन प्रशासन से ही होगा आईटी सेल प्रभारी सत्यम शुक्ला ने बैठक में प्रतिनिधिमंडल को अपनी समस्याओं को शासन स्तर पर रखने के लिए जनप्रतिनिधियों के माध्यम से सदन में उठाने की बात कही है बैठक के अंत में अध्यक्षता कर रहे जिला संरक्षक ने प्रस्ताव रखा है कि निजी स्कूलों के प्रबंधक शिक्षक व कर्मचारियों की समस्याओं को प्रदेश के राज्यपाल के सामने एक प्रतिनिधिमंडल मुलाकात करके रखेगा और अपनी पीड़ा से अवगत कराते हुए निजी स्कूलों के प्रबंधक शिक्षकों को आर्थिक सहयोग देने के लिए अपील करेगा बैठक में वित्तविहीन विद्यालय प्रबंधक संघ के पदाधिकारी व जिले के निजी स्कूलों के प्रबंधक मौजूद रहे हैं।

Related Posts