गोविन्दगढ़, अलवर।। कोरोनावायरस की महामारी के बीच एक तरफ दुनिया भर में स्वास्थ्य कर्मियों को जहां को रोना वॉरियर्स के रूप में जाना जाता है वहीं दूसरी ओर गोविंदगढ़ पुलिस के द्वारा एंबुलेंस कर्मी पर डंडे बरसा दिए गए

एंबुलेंस चालक रविकांत शर्मा ने बताया कि वह सीमावर्ती खतौली गांव में जच्चा-बच्चा को छोड़कर वापस आ रहा था सैमला रोड स्थित पुलिया पर लगे नाके पर एंबुलेंस को पुलिसकर्मियों ने रोक दिया नाके पर तैनात एएसआई इसराइल खान ने भरतपुर नंबर एंबुलेंस होने के कारण आगे निकालने से मना कर दिया

तभी वहां से एक हरियाणा नंबर बाइक सीधे नाके को क्लोज कर निकल गई जिसको लेकर एंबुलेंस चालक रविकांत ने पुलिस से सवाल किए तो वह सवाल एएसआई को चूक गए और एएसआई ने एंबुलेंस चालक से गाली गलौज की पायलट ने कहा कि महिला पुलिसकर्मी के सामने ऐसी अभद्रता कर रहे हैं

तो इतना कहने पर ही एएसआई ने एंबुलेंस चालक की पिटाई कर दी एंबुलेंस चालक ने मामला गोविंदगढ़ थाने में दर्ज करवा कर कार्यवाही की मांग की है, मामला बढ़ता देख वीडियो सोशल मीडिया में लगातार खबर वायरल होने के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू की गई है।

जांच अधिकारी श्यामलाल मीणा ने बताया कि मामला 3 दिन पूर्व का बताया गया है जिसमे सरकार के आदेश के अनुसार भरतपुर की ओर से गाड़ियों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया गया था अब किन कारणों के चलते एम्बुलेंसकर्मी तथा पुलिस के बीच कहा सुनी हुई है इसकी जांच होना बकाया है जो भी जांच में तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर दोषी व्यक्ति के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।