महिदपुर के इन्दौख बैराज से कई किसानों एवं जनता को लाभ होगा- मुख्यमंत्री चौहान

by vaibhav

उज्जैन । उज्जैन जिले के महिदपुर तहसील इंदौख बैराज डैम परियोजना का शुभारंभ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किया। छोटी काली सिंध नदी पर नवनिर्मित इंदौख बैराज डैम परियोजना शुरू होने के बाद मछली पालन केंद्र की शुरुआत होगी साथ ही महिदपुर एवं बड़ोद तहसील के किसानों को खेती के लिए जल की समस्या से निजात मिलेगी। महिदपुर विधायक बहादुर सिंह चौहान के प्रयासों से महिदपुर को एक बहुत बड़ी सौगात डैम के रूप में मिली है।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महिदपुर तहसील के ग्राम इन्दौख में छोटी कालीसिंध नदी पर बने इन्दौख बैराज परियोजना एवं शिप्रा नदी पर सिपावरा-सगवाली मार्ग पर उच्च स्तरीय पुल निर्माण का लोकार्पण तथा महिदपुर से नागेश्वर रोड एवं झारड़ा से गोगाखेड़ा सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास किया।

लोकार्पण एवं शिलान्यास कार्यक्रम के अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इन्दौख बैराज परियोजना के बन जाने से क्षेत्र के कई किसानों एवं आम जनता को लाभ होगा। किसानों और गरीबों के साथ अन्याय नहीं होने दूंगा। किसानों के हित में सरकार दृढ़ संकल्पित है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश मेरे लिये मन्दिर तथा जनता भगवान है। विकास कार्यों में किसी प्रकार की धन की कमी नहीं आने दी जायेगी। गरीबों के कल्याण के लिये हरसंभव मदद करने का प्रयास किया जा रहा है। कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गरीबों के लिये सस्ती दर पर अनाज उपलब्ध कराया जा रहा है। इन्दौख बैराज परियोजना पूर्ण होने से किसानों के खेतों में सिंचाई के साथ-साथ पेयजल उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय से कहा कि कोरोना महामारी में प्रत्येक व्यक्ति सावधानी बरते, अनिवार्य रूप से मास्क पहने, भीड़भाड़ में जाने से बचे। महामारी की रोकथाम के लिये अस्पतालों में बिस्तरों को बढ़ाया जा रहा है। कार्यक्रम के प्रारम्भ में मुख्यमंत्री चौहान ने इन्दौख बैराज परियोजना का अवलोकन किया। तत्पश्चात विधिवत पूजन-अर्चन कर कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक बहादुरसिंह चौहान ने स्वागत भाषण दिया और क्षेत्र की समस्याओं का लिखित में मांगपत्र पढ़ा और मुख्यमंत्री को सौंपा।
उल्लेखनीय है कि उज्जैन जिले की महिदपुर तहसील के ग्राम इन्दौख में जल संसाधन विभाग द्वारा छोटी कालीसिंध नदी पर इन्दौख बैराज परियोजना का निर्माण पूर्ण किया है। परियोजना की लागत 79.03 करोड़ रुपये है। बैराज परियोजना के निर्माण से 6100 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की जा सकेगी। योजना से महिदपुर एवं बड़ौद तहसील के 23 गांवों के किसान सिंचाई कर सकेंगे। बैराज में जलभराव 28.278 मीलियन घन मीटर होकर लगभग 25 किलो मीटर तक छोटी कालीसिंध नदी में पानी रहना संभावित है। इस परियोजना से पांच मिलीयन घनमीटर पेयजल हेतु आरक्षित रहेगा। इन्दौख बैराज की लम्बाई 320 मीटर और ऊंचाई 15.40 मीटर तथा इसमें नौ गेट 12 गुणा 8.50 मीटर के है।
बैराज से महिदपुर तहसील के ग्राम इन्दौख, बनसिंग, पाताखेड़ी, कछालिया सैयद, नाहरखेड़ा, लाड़नपुर, बोलखेड़ानाऊ, खराड़िया मानपुर, लालगढ़, झरन्याखेड़ा, कंथारी, घट्टियाजस्सा, लसुड़िया नाहटा, सामाकोटा और बड़ौद तहसील के लाभान्वित ग्रामों में नरेला, बरोठीखुर्द, असिंध्या, पिपल्यामाना, गरड़ा, झांगरी, अलसिया, लालाखेड़ी एवं सुनारिया है।
इसी प्रकार मप्र सेतु निर्माण ब्रिज कॉर्पोरेशन के द्वारा 704.09 लाख रुपये की लागत से 150 मीटर लम्बाई का शिप्रा नदी पर सिपावरा-सगवाली मार्ग पर उच्च स्तरीय पुल का निर्माण किया गया है। इसी तरह प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अन्तर्गत 2947.92 लाख रुपये की लागत से 34.75 किलो मीटर की महिदपुर से नागेश्वर सड़क तथा 1274.18 लाख रुपये की 15.30 किलो मीटर की झारड़ा से गोगाखेड़ा सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास भी किया गया।

कार्यक्रम में पूर्व विधायक दिलीपसिंह शेखावत, लालसिंह राणावत, किशनसिंह भटोल, बहादुरसिंह बोरमुंडला आदि जनप्रतिनिधि एवं कलेक्टर आशीष सिंह, प्रभारी एसपी सविता सोहाने, जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता केजी सिंह, लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण यंत्री आरके जैन, सेतु विभाग के महेश शर्मा, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क से गर्ग आदि अधिकारी उपस्थित थे।

रिपोर्ट :- आसिफ खान

Related Posts