उज्जैन :- मंगलवार को स्वामी विवेकानन्द जयन्ती के उपलक्ष्य में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उज्जैन आए और उनके द्वारा उज्जैन में आयोजित कार्यक्रम में 100 दिव्यांगजनों को मोटराईज्ड ट्रायसिकल उपलब्ध कराई गई। मुख्यमंत्री द्वारा ट्रायसिकल दिये जाने पर दिव्यांगजन काफी प्रसन्न हुए।

उन्होंने मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया।
तराना के ग्राम कनार्दी निवासी 40 वर्षीय अरूण पिता कन्हैयालाल ने कहा कि वे ट्रायसिकल के मिलने से काफी खुश हैं। अरूण जन्म से ही हाथ व पैर से दिव्यांग हैं। वे तराना में लोडिंग ट्रांसपोर्ट का काम देखते हैं।

अरूण ने बताया कि पहले उन्हें यहां-वहां जाने में काफी तकलीफ होती थी। वे बैसाखी का उपयोग करते थे, परन्तु उसके माध्यम से एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में काफी परिश्रम करना पड़ता था। आधुनिक मोटराईज्ड ट्रायसिकल मिलने से उनकी काफी समस्याएं हल हो जायेंगी। अब उन्हें किसी को सहायता के लिये भी बोलना नहीं पड़ेगा। ट्रायसिकल मिलने से वे आत्मनिर्भर बनेंगे।


एक अन्य युवक उज्जैन के हाटकेश्वर विहार निवासी 27 वर्षीय अजय शर्मा पिता कैलाशचन्द्र शर्मा ने कहा कि वे एक विद्यार्थी हैं तथा वर्तमान में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। पहले एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिये उन्हें उनके पिता का सहारा लेना पड़ता था। पिता उन्हें कंधे पर उठाकर ले जाते थे, लेकिन कुछ दिन पहले हृदयघात हो जाने पर पिता की बायपास सर्जरी हुई थी।

इसके बाद पिता भी उन्हें ले जाने में पूर्ण रूप से असमर्थ हो गये थे। आज अजय को मोटराईज्ड ट्रायसिकल मिलने पर काफी खुशी हो रही थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा उनके जैसे दिव्यांगजनों के लिये आज बहुत बड़ा काम किया गया है। पारिवारिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए।

अजय अब बिना किसी की सहायता के आवागमन ट्रायसिकल के माध्यम से कर सकेंगे। उनके जीवन का एक सपना था कि वह बिना किसी पर निर्भर हुए यहां से वहां जा सकें और आज वह सपना पूरा हुआ है। अजय ने मुख्यमंत्री श्री पर चौहान तथा सांसद अनिल फिरोजिया का बहुत-बहुत धन्यवाद व्यक्त किया।

रिपोर्ट आसिफ खान