गोंडा:- दो सप्ताह बिताने के बाद भी पीड़िता की नहीं लिखी रिपोर्ट। पीड़िता ने आरोप लगाया है कि थाने दार ने अपमानित कर थाने से भगा दिए हैं। पीड़िता को न्याय नहीं मिली तो उप महानिरीक्षक देवी पाटन मंडल से मिलकर लगाई न्याय की गुहार लगाई। तो पीड़िता महानिरीक्षक देवी पाटन मंडल के आदेश पर पुनः मोतीगंज थाने पहुची। लेकिन पीड़ित की कोई सुनवाई नहीं हुई।

उक्त प्रकरण मोतीगंज थाना क्षेत्र के बेहडवा गढवलिया का है। उक्त गांव निवासनि किसनावती पत्नी बिंद्रा द्वारा उप महानिरीक्षक देवी पाटन मंडल गोण्डा को दी गई प्रार्थना पत्र में लिखा है कि उसकी पुत्री कुमारी पूजा उम्र 16 वर्ष को विगत दिनांक 3 जून 2021 को उसी गांव के इंदर पुत्र सत्तन व सुरेश पुत्र ननके द्वेष भावना से उसकी नाबालिक पुत्री को बहला-फुसलाकर राजू पुत्र रामविलास निवासी रानी बाजार थाना कोतवाली नगर गोंडा को बेच दिया।प्रार्थिनी की लड़की को 3 जून 2021 की रात को उपरोक्त दोनों लोग बहला-फुसलाकर लेकर चले गए और साथ में दो हजार नगद तथा करीब ₹30000 के जेवरात भी लेकर चले गए। प्रार्थिनी ने अपने नाथ रिश्तेदारों मैं तलाश किया तब उसको जानकारी हुई जिसकी सूचना प्रार्थिनी द्वारा 4 जून 2021 को मोतीगंज थाने में विपक्षी गणो के विरुद्ध एक लिखित तहरीर दी लेकिन विपक्षीगणो के दबंगई व पैसो के साथ आगे प्रार्थिनी की फरियाद मोतीगंज पुलिस ने नहीं सुनी और ना उसकी रिपोर्ट भी लिखी गई।

पीड़िता किशना वती ने मोतीगंज पुलिस पर आरोप लगाया है। कि उसे कई दिनों तक थाने पर बुलाया गया और उसे समझा-बुझाकर वापस कर दिया जाता है। जब प्रार्थिनी ने कहा कि उसकी रिपोर्ट देखी जाए तो उसे मोतीगंज थाना अध्यक्ष द्वारा अपमानित कर भगा दिया गया। थाने से जब उसको न्याय ना मिली तो विगत दिनांक 19 जून 2021 को उपमहानिरीक्षक देवीपाटन मंडल से अपनी फरियाद लेकर मिली और मोतीगंज पुलिस के द्वारा की गई क्रियाकलापों की उन्हें जानकारी दी। पीड़िता की बात सुनकर उपमहानिरीक्षक ने थानाध्यक्ष मोतीगंज को मुकदमा पंजीकृत करने का निर्देश दिया और पीड़िता किशना वती से कहा कि आप थाने जाकर अपनी रिपोर्ट लिखवा लो। आज दिनांक 20 जून 2021 को जब सुबह पीड़िता पुनः थाने पहुंची तो थानाध्यक्ष ने उसकी रिपोर्ट ना लिख कर पुनः उसे वापस कर दिया। अब सवाल यह उठता है कि मोतीगंज थानाध्यक्ष को उपमहानिरीक्षक के आदेश का कोई मतलब नहीं रखता?

रिपोर्ट राहुल तिवारी जिला संवाददाता गोंडा