कौशाम्बी:- त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को पंचायत चुनाव के चारों पदों के लिए तारीखों का ऐलान कर दिया है। साथ ही प्रदेश में आचार संहिता भी लागू कर दी गई है। ऐसे में उम्मीदवारों होडिंग और बैनर का प्रचार प्रसार तो बंद हो गया है। लेकिन उम्मीदवारों ने वोट बटोरने के लिए विभिन्न प्रकार के नए हथकंडे अपने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते । अब उम्मीरवार लोगों के घरों में जाकर लोगों को विभिन्न प्रकार के संतावना देकर जोर आजमा रहे हैं।


शुक्रवार को पंचायत चुनाव की तारीख की घोषणा होते ही उम्मीद वार लोगों के घरों में जाकर मतदाताओं की वोट बटोरने के लिए विभिन्न प्रकार के वादों का आश्वासन दे रहे हैं। चायल क्षेत्र के चौराडीह में ग्राम प्रधान के और क्षेत्र पंचायत सदस्य के दर्जन भर उम्मीदवार वोट जुटाने में लगे हैं। आलमपुर तिलगोड़ी में ग्राम प्रधान के दर्जन भर उम्मीदवार वोट जुटाने में लगे हैं वहीं आधा दर्जन सदस्यों के उम्मीदवार भी जीत की बुलंदी पार करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते ।

इसी प्रकार बिलासपुर व कसेंदा गांव के ग्राम प्रधान पद के दो दर्जन से अधिक उम्मीदवार गांव के युवाओं का पांच सालों तक सरकारी नौकरियों के लिए फ्री में फार्म भरे जाने और भर्ती देखने जाने वाले युवाओं को किराया ग्राम प्रधान की तरफ से मुहैया कराए जाने का आफर देते हुए गांव की तकदीर बदलने और चारों ओर विकास की धारा बहने की बातों से मतदाओं को को लुभा रहे हैं।

इसी प्रकार मखउपुर, शाहपुर पेरवा, बूंदा, रेही बलहेपुर, लालापुर, बिलासपुर, चौराडीह, बरोलहां, बरियावां आदि गांवों में ग्राम पंचायत के उम्मीदवार आवास और शौचालय की लुभावनी स्कीमों की जानकारी देकर वृध्दों को आकर्षित करने में जुटे हैं। क्षेत्र पंचायत के सदस्यों के उम्मीदवारों की तो लगभग सभी गांवों में अधिक संख्या में प्रत्याशी सोलर पैनल लगवाने की बातों से मतदाताओं को खुश रहे हैं।


रिपोर्ट श्रीकांत यादव