उत्तर प्रदेश। लखनऊ से बड़ी खबर सामने आई है की योगी आदित्यनाथ सरकार आज मंत्रिमंडल विस्तार करने जा रही है। यह मंत्रिमंडल विस्तार आज शाम 5 बजे होने की उम्मीद जताई जा रही है। इस दौरान छह से सात नए चेहरों को मंत्री पद की शपथ दिलाई जानी है। यही वजह है कि उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल गुजरात दौरा छोड़ वापस लखनऊ आ रहीं हैं।

आप को बताते चले कि रविवार को अवकाश के दिन सभी अधिकारियों को राजभवन बुलाया गया है। उधर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बीजेपी प्रभारी राधा मोहन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले नामों को अंतिम रूप दे रहे हैं। न्यूज क्रांति न्यूज को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बेबी रानी मौर्य, कांग्रेस से बीजेपी में आए जितिन प्रसाद समेत कई अन्य नाम मंत्री पद की शपथ लेने वालों की सूची में शामिल हैं।

इसके अलावा दीनानाथ भास्कर का नाम भी मंत्री पद के लिए शपथ लेने वालों में शामिल है। सूत्रों के अनुसार जिन नेताओं को मंत्री पद की शपथ लेनी है। उन्हें लखनऊ बुलाने के लिए फोन किया जा चुका है। सूत्रों का यह भी दावा है कि चुनाव से महज कुछ महीने पूर्व हो रहे इस मंत्रिमंडल विस्तार में किसी भी मंत्री को हटाया नहीं जाएगा।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज दोपहर 12:00 बजे किसान सम्मेलन में शामिल होने के लिए डिफेंस एक्सपो स्थल आने वाले थे। हालांकि मंत्रिमंडल विस्तार और संभावित नामों पर अंतिम मुहर लगाने को लेकर उच्च स्तरीय बैठक में भी उन्हें शामिल होना था। इसके चलते वह किसान सम्मेलन में उपस्थित नहीं हो सके। वहीं, मंत्रिमंडल के संभावित नामों को लेकर बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व मंथन करता नजर आ रहा है।

इन नामों की सबसे ज्यादा चर्चा

मंत्रिमंडल में शपथ लेने वाले नए चेहरों में जिनके नाम सबसे ज्यादा चर्चा में है, उनमें मुख्य रूप से कांग्रेस से बीजेपी में आए जितिन प्रसाद और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दलित चेहरा बेबी रानी मौर्य शामिल हैं। इसके अलावा छत्रपाल गंगवार, धर्मपाल प्रजापति, संगीता बिंद, गोंडा बलरामपुर से पलटू राम के नाम भी संभावितों की सूची में बताए जा रहे हैं। तेजपाल नागर के नाम की भी चर्चा है। भारतीय जनता पार्टी 2022 के विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले अपना यह मंत्रिमंडल विस्तार कर रही है। इसमें जातीय समीकरण के साथ क्षेत्रीय समीकरणों को भी दुरुस्त करने की कोशिश की जाएगी। संजय निषाद के नाम पर फिलहाल सस्पेंस बरकरार है।

रिपोर्ट राहुल तिवारी