कौशाम्बी: सरायअकिल कस्बे के फकीराबाद चौराहे पर सोमवार शाम वाहन चेकिंग के दौरान बाइक सवार के सामने पुलिस द्वारा डंडा लगाकर रोकने के प्रयास में हड़बड़ाहट में दो बाइक आपस में टकरा गई जिससे महिला समेत कुल चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

पुरखास गांव निवासी लवकुश की ससुराल तरना गांव में है। उसके मुताबिक सोमवार सुबह वह अपनी पत्नी नीतू को अपनी ससुराल छोड़कर आया था।शाम को उसे वापस पुरखास बुलाने के लिए उसने बाइक देकर अपने भाई अजय को भेजा। सोमवार शाम को अजय अपनी भाभी नीतू व उसके एक साल के बच्चे को बाइक पर बैठाकर वापस लौट रहा था।फकीराबाद चौराहे पर थाने के एसआई परमानंद यादव व उपनिरीक्षक बाबाराम गुप्ता वाहनों की चेकिंग कर रहे थे।आरोप है कि अजय की बाइक रोकने के लिए एक सिपाही ने सामने डंडा लगा दिया इसी हड़बड़ाहट में बाइक सामने से आ रही बाइक से टकरा गई जिससे अजय व नीतू व दूसरी बाइक पर सवार बसुहार गांव निवासी दुर्गेश नंदन मिश्रा व मनोज कुमार गंभीर रूप से घायल हो गए। राहगीरों ने सभी घायलों को इलाज के लिए सीएचसी पंहुचाया जहां नीतू की हालत गंभीर बनी हुई है। सूचना पर सभी के घरवाले भी मौके पर पहुंच गए हैं।

पुलिस का अमानवीय चेहरा आया सामने

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक पुलिस की डंडा लगाकर बाइक रोकने गलती की वजह से दो बाइकों की आपस में भिड़ंत हुई है। घायलों को चंद कदम की दूरी पर स्थित सीएचसी पहुंचाने के लिए पुलिस ने 108 एंबुलेंस भी बुलाना मुनासिब नहीं समझा। पुलिस द्वारा मदद नहीं मिलने पर राहगीरों ने हादसे गंभीर रूप से घायल नीतू को सब्जी बेचने वाली ठेला गाड़ी पर लादकर अस्पताल पहुंचाया।

रिपोर्ट श्रीकान्त यादव