symbolic image

लखनऊ: प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) अध्यक्ष एवं विधायक शिवपाल सिंह यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख कर इटावा के सैफई स्थित आक्सीजन संयंत्र की बंद पड़ी दो इकाइयों को चालू करने की मांग की है।

शिवपाल यादव ने रविवार को लिखे पत्र में कहा कि देश भर में फैले कोरोना संक्रमण और ऑक्सीजन के अभाव में दम तोड़ते मरीजों के भयावह दृश्यों के बीच इटावा स्थित उप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई की चिकित्सा व्यवस्था भी दम तोड़ रही है। ऐसी विपरीत परिस्थिति में उप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई स्थित ऑक्सीजन प्लांट के दो यूनिट बंद पड़े हैं। प्रति यूनिट 27000 (सम्पूर्ण 54000) लीटर क्षमता वाले इन विशाल प्लांटों का दो वर्षों से बंद पड़ा रहना न सिर्फ दुर्भाग्यपूर्ण है बल्कि संस्थान में पसरे अकर्मण्यता और भ्रष्टाचार की ओर भी इशारा करता है।

पीएम केयर्स फण्ड से लगेंगे 551पीएसए ऑक्सीजन प्लांट

आज अगर यह प्लांट क्रियाशील होता तो न सिर्फ संस्थान ऑक्सीजन के लिए आत्मनिर्भर होता बल्कि दूसरे जिलों व संस्थानों को ऑक्सीजन उपलब्ध करा रहा होता।

2 सालों से बंद पड़ा है प्लांट


उन्होने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट का दो वर्षों से बंद पड़ा रहना और संज्ञान में न लाया जाना न सिर्फ प्रशासनिक लापरवाही व भ्रष्टाचार का विषय है बल्कि कुछ उच्च अधिकारियों के कमीशनखोरी के चक्कर में चीजों को लटका देने की प्रवृत्ति का भी परिणाम है। ऐसे में प्लांट की इस दशा के लिए जिम्मेदार उच्च अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई करने की भी आवश्यकता है।

शिवपाल यादव ने कहा “ मेरा आग्रह है कि जनहित को ध्यान में रखते हुए उप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई स्थित ऑक्सीजन प्लांट को तत्काल शुरू करवाया जाना चाहिए। ऐसे कठिन संकट में संस्थान भयावह ऑक्सीजन आपूर्ति संकट का सामना कर रहा है। वर्तमान में संस्थान बाह्य आपूर्ति पर निर्भर है, ऐसे में मरीजों का जीवन आपूर्ति व्यवस्था के निर्बाध संचालन के भरोसे ही है। ”

उन्होने कहा कि अभी पत्र के लिखे जाने तक संस्थान में कुछ ही घंटों का ऑक्सीजन शेष है और मरीजों का जीवन संकट में है। इसलिये निवेदन है कि उपयुक्त प्रकरण की गम्भीरता को संज्ञान में लेते हुए उप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई स्थित प्लांट को जल्द ही आरम्भ करवाने का कष्ट करें और तात्कालिक ऑक्सीजन संकट को देखते हुए संस्थान में ऑक्सीजन आपूर्ति व्यवस्था के निर्बाध संचालन के लिये संबंधित को आदेशित करने का कष्ट करें।