Home StateUttar PradeshLakhimpur Kheri पहली बार डीजल ने लगाई रेस पेट्रोल को हराया

पहली बार डीजल ने लगाई रेस पेट्रोल को हराया

by nikhil
12 views

लखीमपुर-खीरी :- सम्पूर्णानगर आमतौर पर यही देखने को मिलता है कि डीजल और पेट्रोल के मूल्य में लगभग दहाई के अंकों में अंतर रहता है कभी-कभी यह अंतर घटता बढ़ता रहता है। परंतु अभी तक डीजल के मुकाबले सम्पूर्णानगर में पेट्रोल महंगा ही बिकता रहा परंतु महीनों से चले आ रहे।

लॉकडाउन में जहां गाड़ी, घोड़ों की रफ्तार के साथ देश की जीडीपी तक थम सी गई है वहां डीजल के मूल्य ने ऐसी रेस लगाई की वह पेट्रोल को मात दे बैठा और अभी भी प्रतिदिन 47 पैसे की रेस लगा रहा है।

आपको बताते चलें कि थाना क्षेत्र सम्पूर्णानगर के इतिहास में डीजल का दाम पेट्रोल से कम ही रहा है। अधिकांश डीजल के मुकाबले पेट्रोल 5 से 10 महंगा ही रहता रहा है। परंतु सम्पूर्णानगर में पहली बार पेट्रोल के मुकाबले डीजल महंगा बिक रहा है।

पूरे देश में कोरोना के कारण जहां प्रत्येक इकाइयों की गति पर ब्रेक लग गया है। वाहनों की स्पीड कम हो गई है लोगों की कमाई कम हो गई है। देश की जीडीपी स्थिर हो गई है। वही कोरोना से बेखौफ होकर स्पीड लगाता हुआ।

डीजल का दाम पेट्रोल के मुकाबले 12 पैसे बढ़कर 79.92 रुपये प्रति लीटर पहुंच गया जबकि पेट्रोल का  दाम 79. 80 रुपए को पार कर गया है आलम यह है कि प्रतिदिन डीजल का दाम 47 पैसे बढ़ रहा था परन्तु आज पिछली रात लगभग 6 रुपये बढ़ने से यह स्थिति पैदा हुई ।

आपको बता दें डीजल का दाम ऐसे समय पर बढ़ रहा है जब महीनों से चले आ रहे है लॉकडाउन के चलते हर कोई परेशान है छोटे- बड़े किसानों को गन्ने का अब तक पूर्ण भुगतान भी ना मिल पाना है, जबकि इस समय किसान धान की रोपाई में लगे हुए हैं।

खेतों की जुताई करना तथा खेतों में पानी भरने के लिए ऊंचे दाम पर डीजल खरीदना मजबूरी है देश में जहाँ वाहनों तथा औद्योगिक इकाइयां बंद पड़ी है डीजल का खर्च देश में कम हो रहा है।

ऐसे में पहली बार आश्चर्यजनक रूप से डीजल का दाम पेट्रोल के मुकाबले  बढ़ना गले नहीं उतर रहा है बरहाल जो भी हो वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए खाद्य पदार्थों की कीमतों के साथ ही डीजल पेट्रोल के दाम भी नियंत्रित होने चाहिए।


भारत में डीजल का दाम पहली बार मोदी सरकार में पेट्रोल के दाम को पार किया है यह इतिहास है इसे मोदी सरकार की सफलता के लिए जाएगी या असफलता यह आने वाले समय में जनता तय करेगी।

रिपोर्ट गोविंद कुमार

You may also like