सरकारी कामकाज में ज्यादा से ज्यादा हिंदी के प्रयोग और प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से गठित राजभाषा विभाग द्वारा शुक्रवार को सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है, जहाँन पिछले दो वर्षों के दौरान सरकारी विभाग में हिंदी के प्रयोग करने वाले 122 लोगों को सम्मानित किया जाएगा।

संविधान के अनुच्छेद 343 के अनुसार संघ की राजभाषा हिंदी और लिपि देवनागरी है और अनुच्छेद 351 में हिंदी भाषा के विकास के लिए आवश्‍यक निदेश दिए गए हैं। अपने संवैधानिक दायित्‍वों के निर्वहन के क्रम में राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा दिनांक 27 नवंबर 2021 को चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्‍वविद्यालय, नवाबगंज कानपुर में उत्‍तर-1 तथा उत्‍तर-2 क्षेत्रों में स्थित केंद्र सरकार के कार्यालयों, बैंकों एवं उपक्रमों इत्‍यादि के लिए संयुक्‍त क्षेत्रीय राजभाषा सम्‍मेलन एवं पुरस्‍कार वितरण समारोह का आयोजन किया जा रहा है। उत्‍तर-1 में दिल्‍ली, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, राजस्‍थान, जम्‍मू, श्रीनगर, लद्दाख तथा हिमाचल प्रदेश राज्‍यों के कार्यालय शामिल हैं। उत्‍तर-2 में उत्‍तर प्रदेश तथा उत्‍तराखंड राज्‍य के कार्यालय हैं।

केंद्र सरकार के कार्यालयों, बैंकों एवं उपक्रमों को विभिन्‍न श्रेणियों के अंतर्गत राजभाषा में उत्‍कृष्ठ कार्य करने हेतु पुरस्‍कार प्रदान किए जाएंगे। कार्यक्रम में राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय की सचिव सुश्री अंशुलि आर्या सहित केंद्र सरकार और केंद्रीय कार्यालयों के वरिष्‍ठ अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहेंगे।

विदित हो कि राजभाषा विभाग द्वारा राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु प्रत्‍येक वित्‍तीय वर्ष में चार क्षेत्रीय सम्‍मेलन आयोजित किए जाते हैं। कोरोना की विषम परिस्थितियों के कारण विगत दो वर्षों से ये आयोजन नहीं हो सके थे तथा वर्ष 2021-22 में पहला आयोजन दिनांक 22 अक्‍तूबर 2021 को गोवा में किया गया था और दूसरा आयोजन यहां कानपुर में किया जा रहा है।

राजभाषा विभाग द्वारा सूचना प्रबंधन प्रणाली के माध्यम से सभी नगर राजभाषा कार्यान्वयन समितियों की रिपोर्टें विभाग को ऑनलाइन प्रेषित करने की सुविधा प्रारम्‍भ की गई, जिसके अंतर्गत सभी नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समितियों को यूज़र आईडी और पासवर्ड उपलब्ध कराए गए हैं। इसके द्वारा नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समितियां वेबसाइट पर लॉग-इन कर कार्यसूची, कार्यवृत्त आदि सभी संगत सूचनाएं राजभाषा विभाग को ऑनलाइन भेजती हैं और इन्‍हीं सूचनाओं के आधार पर पुरस्कारों का मूल्यांकन किया जाता है। राजभाषा के क्षेत्र में उत्‍कृष्‍ठ कार्य के निष्‍पादन हेतु पुरस्‍कार विजेताओं को प्रमाण पत्र तथा शील्‍ड देकर सम्‍मानित किया जाएगा।