कौशाम्बी :- मंझनपुर तहसील में अफसरों से बढ़ती भूमाफियाओ की दोस्ती जग जाहिर हो रही है। मोटी रकम मिलते ही तहसील प्रशासन सरकार भूमि को भी माफियाओं की भूमिधरी बताने लगते है। हाल ही में जिला अस्पताल के बांउड्री व सड़क के बीच की खाली पड़ी जमीन पर एक भूमाफिया अवैध कब्जा कर रहा है। लेकिन दर्जनों बार शिकायत के बाद भी अफसर कार्रवाई करने से कतरा रहें है।



मंझनपुर नगर पालिका में जिला अस्पताल की बाउंड्री से लगी हुई लगभग 50 से 60 फुट चौड़ी व लगभग 700 फुट लम्बी सरकारी जमीन पड़ी हुई है। आरोप है कि एक जालसाज फर्जी अभिलेख के सहारे उक्त जमीन पर कब्जा कर चुका है। सूत्रों की माने तो जिला अस्पताल निर्माण में कई किसानों की जमीन अधिग्रहण कर मुआवजा दे दिया गया था। लेकिन एक जालसाज ने मुआवजा लेने के बाद खेल कर जमीन पर कब्जा कर लिया है।

फर्जी अभिलेख बना अस्पताल की बाउंड्री व सड़क के बीच रोड चौड़ीकरण के लिए बची हुई लोक निर्माण विभाग की जमीन में अवैध कब्जा कर लिया है। कस्बे के राहुल, आयुष, पवन कुमार आदि लोगों का कहना है कि पहले जालसाज ने केवल दो दुकान तत्कालीन लेखपाल से मिली भगत कर बनवा लिया था। इसके बाद तत्कालीन डीएम ने मामले को संज्ञान में लेकर निर्माण में रोक लगा दिया था।

लेकिन डीएम के स्थानंतरण के बाद तहसील के अफसरों व लेखपाल से सांठगांठ करके जालसाज धीरे धीरे 12 कमरे बनवा लिया है। इसके बाद अब कमरों को किराए पर उठाकर लाखों रुपए महीने कमा रहा है। सरकारी जमीन से मालामाल हो रहा है। साथ ही बाकी जमीन में बॉस आदि बंधवा कर कब्जा कर चुका है। लोगों ने मामले की शिकायत सीएम से किया है।



भूमाफिया पर मेहरबान है अफसर

कौशाम्बी मंझनपुर नगर पालिका मुख्यालय में होने से यहाँ जमीन के भाव आसमान छू रहे है। ऐसे में कुछ भूमाफिया की निगाह मंझनपुर, पाता,समदा,ओसा सहित आसपास के गांव की खाली पड़ी सरकार भूमि पर लगी हुई है। माफिया अब तक कई बीघे सरकारी भूमि अभिलेखों में हेराफेरी कर हड़प चुके है। इस खेल में तहसील अफसरों व कर्मचारियों की अहम भूमिका रही है।


रिपोर्ट श्रीकांत यादव