सरकार से त्रस्त व्यापारियों ने तालाबंदी का किया निर्णय

by nikhil

कौशाम्बी :- उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मंडी शुल्क के नाम पर व्यापारियों के उत्पीड़न किए जाने से व्यापारी त्रस्त हैं। बार-बार व्यापारी अपनी आवाज सूबे की सरकार तक पहुंचा रहे हैं लेकिन सरकार से व्यापारियों को राहत नहीं मिल रही है। सरकार से निर्णय में विलंब होने से व्यापारियों ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि वह 29 सितंबर से मंडी शुल्क समाप्ति तक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर नवीन मंडी स्थल के व्यापारी रहेंगे।



इस दौरान व्यापारी अपनी फर्म दुकान गोदाम में तालाबंदी कर व्यापार बंद कर देंगे। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के प्रांतीय महामंत्री रमेश अग्रहरि ने जानकारी देते हुए बताया कि व्यापारियों पर मंडी शुल्क समाप्त न किए जाने के विरोध में उत्तर प्रदेश की सभी नवीन गल्ला मंडी व्यापारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहेंगे वह मंडियों में खरीद एवं बिक्री का कोई कारोबार व्यापारी नहीं करेगा।

प्रांतीय महामंत्री रमेश अग्रहरि ने कहा कि मंडी के बाहर व्यापार करने वाले व्यापारियों पर मंडी शुल्क समाप्त करके सरकार ने एक सराहनीय कार्य किया है लेकिन मंडी के अंदर व्यापार करने वाले व्यापारियों पर मंडी शुल्क खत्म ना होने से नवीन मंडी परिसर के अंदर व्यापार करने वाले व्यापारियों का व्यापार लगभग समाप्त हो रहा है।



व्यापार मंडल के आवाहन पर 19 और 20 जून एवं 09, 10 और 11  जुलाई को इस कानून के खिलाफ पूरे प्रदेश की नवीन मंडी गल्ला मंडिया सफलतापूर्वक बंद रही थी परंतु सरकार ने मंडी परिसर के अंदर व्यापार करने वाले व्यापारियों पर मंडी शुल्क समाप्त किए जाने का आदेश अभी तक नहीं जारी किया है। सरकार की इस नीति के चलते व्यापारी आक्रोशित है और व्यापारियों ने पूरी तरह से व्यापारिक प्रतिष्ठान में तालाबंदी कर हड़ताल करने की घोषणा कर दी है।


रिपोर्ट श्रीकान्त यादव

Related Posts