Home StateUttar PradeshPilibhit साधु की मौत, समाधि को लेकर ग्रामीणों और पुलिस में टकराव

साधु की मौत, समाधि को लेकर ग्रामीणों और पुलिस में टकराव

by vaibhav
17 views

पीलीभीत :  उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले के बिलसंडा में झंपा बाग शिवमंदिर के महंत की बीती रात संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। मंदिर के पड़ोस में ग्रामसमाज की खाली पड़ी जमीन पर महंत की समाधि बनाने को लेकर पुलिस से जमकर टकराव हुआ। सूचना पर एसडीएम और बीसलपुर, दियोरिया कोतवाली से भी फोर्स मौके पर पहुंचा। तनाव की आशंका के मद्देनजर गांव में पुलिस तैनात की गई है।

थाना क्षेत्र के गांव मीरपुर ढकरिया प्राइमरी स्कूल से सटे झंपा बाग में प्राचीन शिवमंदिर है। आगरा के बाबा लाल गिरि (70)  मंदिर के पिछले बीस वर्षों से महंत हैं। गुरू राजगिरि के देहावसान के बाद वे मंदिर के सर्वराकार बने थे। बाबा के दो और शिष्य भी मंदिर पर साथ रहते थे। मगर बीती रात वे नहीं थे। एक शिष्य को बाबा ने लंगड़ेबाबा देवस्थल पर भेजा था। सावन के महीने में सुबह होते ही गांव के लोग मंदिर पर पूजा करने आते हैं।

शनिवार सुबह सबसे पहले गांव के रामदास पांच बजे मंदिर पहुंचे। मंदिर गेट की दीवार से सटकर उन्हें बाबा लालगिरि बैठे मिले। वे अपना शरीर छोड़ चुके थे। जिसके बाद गांववालों में हड़कंप मच गया। लोग रोते बिलखते मंदिर पहुंचने लगे। बाबा के शिष्य और साधु महात्मा भी पहुंचने लगे। साधु महात्माओं ने ग्रामीणों से बातचीत की। बाद में उनकी समाधि की तैयारी की जाने लगी। 

बाबा के देहावसान के बाद मंदिर के पड़ोस में ही फिरसाह चुराह ग्राम पंचायत की ग्रामसमाज की नौ बीघा जमीन पर ग्रामीण और साधु संत बाबा की समाधि लगाने की तैयारी करने लगे। चूंकि जमीन राजस्व अभिलेखों में ग्रामसमाज में दर्ज है। इसलिए सूचना मिलते ही तहसीलदार ने इंस्पेक्टर बिलसंडा नरेश कश्यप को मौके पर भेजा फिलहाल आक्रोशित साधुओं और ग्रामीणों को समझाकर पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया है।

You may also like