गोण्डा :- सीओ करनैलगंज के विरूद्ध जमानती वारंट हाई कोर्ट लखनऊ खंड पीठ ने जारी किया है, जिले के कौडिया बाजार  थाना क्षेत्र के एक गांव में नाबालिग के साथ 2016 में हुए  रेप के मामले सीओ ने कोर्ट के आदेश को दरकिनार करते हुए आज तक काउंटर नही दाखिल किया है।बताते चले के कौडिया थाना क्षेत्र के एक गांव में 2 सितम्बर  2016 को कक्षा आठ की एक नाबालिग  छात्रा के साथ हुए दुष्कर्म के मामले अभियुक्त को 09/09/2016 को  जेल भेजा था। जिला सत्र न्यायाधीश गोण्डा के यहा से जमानत याचिका खारिज होने के उपरांत सेकण्ड बेल उच्च न्यायालय लखनऊ खण्ड पीठ के समक्ष दाखिल किया गया था।जिसमें बुधवार को माननीय उच्च न्यायालय द्वारा जमानत याचिका संख्या 10123/019 उत्तर प्रदेश सरकार बनाम (धापू )में उच्च न्यायालय लखनऊ खण्ड पीठ कोर्ट नम्बर 27 न्यायमूर्ति इरशाद अली द्वारा क्षेत्राधिकार  करनैलगंज मुन्ना उपाध्याय के विरूद्ध जमानती वारंट प्रति सपथ पत्र दाखिल न करने की वजह से अंतिम अवसर प्रदान करने के बावजूद भी माननीय उच्च न्यायालय के समक्ष न तो पेश हुई न ही काउन्टर दाखिल हो सका जिसके चलते उक्त कार्यवाही उच्च न्यायालय लखनऊ खण्ड पीठ द्वारा की गयी है।

इस समबन्ध में सीओ करनैलगंंज मुन्ना उपाध्याय से उनके  सीओजी नम्बर पर जानकारी करने पर बताया गया कि इमरजेन्सी डियुटी गोरखपुर लगने के कारण उच्च न्यायालय लखनऊ खण्ड पीठ के सामने उपस्थित न हो सका।वैसे पूरे प्रकरण में करनैलगंज पुलिस की लापरवाही खुल कर सामने आयी है उक्त मामले उच्च न्यायालय लखनऊ खण्ड पीठ के द्वारा 14/12/2020 को करनैलगज पुलिस को अंतिम अवसर प्रदान करते हुए दो सप्ताह का समय काउंटर दाखिल करने का आदेश देते 13 जनवरी  2021 को अगली तिथि तय की लेकिन उपस्थित न हो सके।

रिपोर्ट राहुल तिवारी जिला संवाददाता गोंडा