कोरोना महामारी के बीच कट्टरपंथी समुदाय अपनी ओछी हरकतों से बाज आने का नाम नहीं ले रहा है। देशभर में कट्टरपंथी समुदाय के द्वारा डाक्टरों और पुलिस की टीम पर हो रहे हमलों की कड़ी में आज कानपुर का नाम भी जुड़ गया। प्रदेश भर में कोरोना के खतरे को देखते हुए कई शहरों में हॉटस्पॉट बनाए गए हैं। जिसके चलते कानपुर में भी कई हॉटस्पॉट चिन्हित किये गए हैं। वहीं इनमे से एक चमनगंज इलाके को भी हॉटस्पॉट बनाया गया है, जहाँ से मानवता को शर्मशार करने वाला मामला प्रकाश में आया है। दरसल चमनगंज में सर्वे कर रहीं स्टाफ नर्सों से चार युवकों ने छेड़छाड़ कर अभद्रता कर दी। विरोध करने पर जान से मारने की धमकी भी दी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर चारों आरोपितों को गिरफ्तार भी कर लिया है।

शनिवार दोपहर चमनगंज में स्वास्थ्य टीमें सर्वे कर रहीं थी। इलाके की एक गली में चार युवकों ने नर्सों से छेड़छाड़ कर उन्हें जान से मारने की धमकी दे दी। इस पर नर्सों ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ पुलिस से शिकायत की। जिसके बाद चमनगंज थाना प्रभारी राजबहादुर फोर्स के साथ मौके पर पहुचे और चारों आरोपितों को थाने ले आए। पुलिस में बताया कि चारों के ऊपर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। गिरफ्तार आरोपितों में चमनगंज निवासी कलीम, बजी अहमद, सलीम और अजमद अंसारी है।

  • कौस्तुभ शंकर मिश्रा