कौशाम्बी :- पशुपालन हेतु सरकार द्वारा ऋण दिया जा रहा है जिसके लिए पशुओं का स्वास्थ्य प्रमाण पत्र पशु चिकित्सालय से बनवाना पड़ता है lजानकारी के मुताबिक जिसकी सरकारी फीस 15 रुपये है । वही पशुओं के स्वास्थ्य प्रमाणपत्र के नाम कीमत से ज्यादा मूल्य पशु अस्पताल के नुमाईंदों द्वारा वसूला जा रहा है ।

सूत्रों की माने तो विकास खण्ड कड़ा के कड़ा में स्थित पशु चिकित्सालय में पशुओं के ऋण के लिए प्रति प्रमाण पत्र 500 सौ रुपये वसूला जा रहा है । जानकारी के मुताबिक कड़ा के पशु अस्पताल में तैनात पशु चिकित्साधिकारी हमेशा अस्पताल से नदारत रहते हैं।

वही क्षेत्र के टीलवा , असदपुर आदि गावो में डगनाला , खुरपका व फीवर आदि की बीमारी जोरों पर है ,बीमार मवेशीयों की संख्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है लेकिन शिकायत के बाद भी अस्पताल ने मौजूद चिकित्सक इस ओर ध्यान नही दे रहे हैं । जिससे पशुपालक परेशान हैं ।


रिपोर्ट श्रीकान्त यादव