इटावा : 4 साल की उम्र में बच्चा सही से बोलना भी नहीं सीख पाते और मासूम बच्चे को इस उम्र में सही और गलत का भी फर्क पता नहीं होता है। लेकिन उत्तर प्रदेश के इटावा में इस उम्र में एक मासूम ने एक दरिंदे युवक की हैवानियत देख ली। मामला इटावा के उदी का है जहां सोमवार की शाम टॉफी का लालच देकर मासूम को सरसों के खेत में ले जाकर दरिंदे किशोर ने मासूम को अपनी हैवानियत का शिकार बना डाला। बच्ची गंभीर हालत में रोते हुए किसी के पास पहुंची। बच्ची की हालत देख परिजन उसे लेकर बढ़पुरा थाने पहुंचे और तहरीर दी। पुलिस ने तत्काल मामला दर्ज कर बच्ची को मेडिकल परीक्षण के लिए तो भेज दिया और मामले की जांच के लिए टीमों का गठन भी कर दिया।

आपको बता दें कि गांव के ही एक 16 साल के नाबालिक किशोर ने मात्र 4 साल की मासूम बच्ची को अपनी हवस का शिकार बना डाला। मिली जानकारी के अनुसार पता चला है कि बच्ची की दादी दोपहर खेत जा रही थी दादी की जाने के बाद बच्ची भी उनके पीछे खेतों की ओर जाने लगी नाबालिक बच्ची ने अपने घर से मात्र कुछ मीटर की दूरी ही तय की थी कि रास्ते में उसे किशोर ने रोक लिया और काफी देने का लालच देकर उसे सरसों के खेत में ले गया जहां उसने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया।


दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने के बाद किशोर मौके से फरार हो गया। बच्ची के पिता ने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि करीबन 3:00 बजे गंभीर हालत में रोते हुए बेटी घर पहुंची वह बच्ची को लेकर बढ़पुरा थाने पहुंची और मामले की शिकायत की तभी एक ग्रामीण ने आरोपी नाबालिग को गांव से भागते हुए देख लिया। बच्ची के पिता ने नाबालिक किशोर के खिलाफ थाने में दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज करा दी है।