राजगढ़ (मध्य प्रदेश):- राजगढ़ जनपद थाना बोड़ा, जिला राजगढ़
7 लाख 54 हजार रुपए का मशरूका किया जप्त
आपको बता दें कि अवैध एवं जहरीली शराब के विरुद्ध कार्यवाही करने हेतु प्राप्त दिशा निर्देशों के परिपालन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनकामना प्रसाद, एवं नरसिंहगढ़ एसडीओपी भारतेंदु शर्मा, के मार्गदर्शन मैं बोड़ा की पुलिस टीम ने अवैध शराब की तस्करी करते हुए तीन आरोपियों को दबोचा।
मामला कुछ इस है कि बीते दिन सोमवार को मुखबिर द्वारा सूचना प्राप्त हुई, की कुछ व्यक्ति एक स्लेटी कलर की कार एम.पी.37 सी 4298 जिसमें अवैध शराब का परिवहन कर रहे हैं, सूचना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराते हुए उचित निर्देश व मार्गदर्शन प्राप्त कर उक्त मुखबिर की सूचना की तस्दीक हेतु हमराह फोर्स लेकर ग्राम पिपलिया रसोड़ा, पहुंचे तभी कड़िया जोड़, से मुखबिर के द्वारा बताएं हुलिए की एक स्लेटी रंग होंडाई accent कार आते दिखाई दी जिसे हमराह फोर्स की मदद से घेराबंदी कर रोका गया।
आपको बता दें कि कार में कुल तीन व्यक्ति बैठे थे जिनका नाम पता पूछने पर ड्राइवर की सीट पर बैठे व्यक्ति ने अपना नाम अर्जुन शर्मा, उम्र 39 साल निवासी ग्राम सेमली खुर्द, थाना मंडी, जिला सीहोर, व साथ में बैठे व्यक्ति ने अपना नाम आत्माराम मालवीय, उम्र 36 साल निवासी ग्राम सेमली खुर्द व पीछे की सीट पर बैठे व्यक्ति ने अपना नाम दीपक सिरमोरिया, उम्र 24 साल निवासी न्यू मल्टी, ईदगाह हिल्स थाना शाहजहानाबाद, का होना बताया कार की तलाशी ली गई एवं कार की डिक्की को खोल कर चेक किया तो उसमें खाकी रंग दे 12 कार्टून मिले जिसमें अवैध देसी मसाला शराब कुल कीमत 54 हजार रूपए, की होना पाई गई।
उक्त व्यक्तियों से शराब के कार्टून के संबंध में दस्तावेज कागजात और परमिट का पूछने पर कोई वैद्य परमिट नहीं होना बताया।
आरोपी गणों का कृत्य अपराध धारा 34(2) आबकारी एक्ट के अंतर्गत दंडनीय पाए जाने से आबकारी अधिनियम के तहत उक्त अवैध शराब विधिवत जप्त कर परिवहन करने वाले वाहन सहित कुल मशरूका 7 लाख 54 हजार रुपए,का जप्त किया गया।
आरोपी गणों के विरुद्ध अपराध क्रमांक 102/21 धारा 34(2) आबकारी अधिनियम का मामला पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
उक्त कार्यवाही में थाना प्रभारी निरीक्षक अर्जुन सिंह मुजाल्दे, उपनिरीक्षक धर्मवीर सिंह पलैया, प्रधान आरक्षक 698 लाखन सिंह, आरक्षक 382 वीरेंद्र रावत, आरक्षक 799 श्यामलाल, आरक्षक 977 राहुल, आरक्षक 685 धरमवीर, आरक्षक 688 प्रदीप शाक्य, की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

रिपोर्ट कमल चौहान