रूपईडीहा(बहराइच)। भारत में कोरोना की धीमी पड़ती रफ्तार को ध्यान में रखते हुए नेपाली कामगारों ने रोज़गार की तलाश में एक बार फिर भारत की ओर रुख़ किया है। पिछले 2 दिनों में लगभग 3 सौ से 4 सौ नेपाली कामगारों ने नेपाली सीमा जमुनहा से भारतीय कस्बा रुपईडीहा के रास्ते भारत में प्रवेश किया । इस संबंध में जानकारी देते हुए नेपाली जमुनहा चौकी इंचार्ज विष्णु गिरी ने बताया काफी दिनों इस बॉर्डर पर आवागमन में कमी देखी जा रही थी।परंतु दो-तीन दिनों में काफी बड़ी संख्या में नेपाली कामगारों की हलचल देखने को मिल रही है ।

उन्होंने बताया कि दुर्गम पहाड़ी क्षेत्र रोल्पा, डोल्पा , जुमला, हुमला, कालिकोट , जाजरकोट दैलेख, सुर्खेत व सल्यान आदि इलाकों के बड़ी संख्या में भारत में काम करने वाली नेपाली कामगारों ने भारत जाने का निर्णय लिया है । आपको बताते चलें कि नेपाली कामगार खेती किसानी करने के उद्देश्य भारत का काम छोड़कर अपने देश में चले जाते हैं । और जैसे ही उनके काम समाप्त होते हैं । वापस फिर भारत की ओर रुख कर लेते हैं ।इन दिनों पहाड़ों पर हो रही वर्षा से नेपाली क्षेत्रों में रोजगार न के बराबर रह गया है। जिससे इन लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। जिसके कारण इन कामगारो ने भारत के महानगरों में कामकाज कामकाज की तलाश में एक बार पुनः जाने का निर्णय लिया है।

रिपोर्ट : रईस