उरई (जालौन)। जिलाधिकारी डा0 मन्नान अख्तर द्वारा एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से अवगत कराया गया है। कि मुख्य सचिव उ0प्र0 शासन के आदेशानुसार दिसम्बर, माह 2020 के द्वारा प्रदेश में किसान कल्याण मिशन के अन्तर्गत जनपद के प्रत्येक विकास खण्ड पर विधानसभा बार निम्न विवरण के अनुसार निर्धारित तिथियो को कृषि मेला एवं कृषि प्रदर्शनी का आयोजन किया जायेगा।

जिसके मुख्य तीन भाग होगे। उन्होने बताया कि कृषि व सहवर्गीय सेक्टर की वृहद प्रदर्शनी जिसमें स्थानीय स्तर पर लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्यमिता इकाईयों तथा ग्राम विकास के आजीविका मिशन के अन्तर्गत गठित स्वयं सहायता समूहों के द्वारा उत्पादित प्रमुख उत्पादों की प्रर्दशनी भी लगायी जायेगी एवं विभिन्न प्रकार की कृषि तकनीकों के प्रदर्शन (डिमान्सट्रेशन) कराये जायेंगे। किसान गोष्ठी जिसमें प्रगतिशील किसान, कृषि वैज्ञानिक एवं कृषि विभाग से जुड़े कृषि प्रसार कार्यकर्ता शासन की किसानोन्मुखी योजनाओं के बारे में सम्यक जानकारी उपलब्ध करायेगे।

विभिन्न विभागों द्वारा कृषि कल्याण की संचालित योजनाओं के लाभार्थियों को मौके पर ही लाभ प्रदान कराया जायेगा। उन्होंने बताया कि जनपद के विकास खण्डों में आयोजित होने वाले कृषि मेला एवं प्रदर्शनी दिनांक 21जनवरी.2021 को विकास खण्ड रामपुरा, माधौगढ़ तथा कुठौन्द में आयोजित किये जायेगे। उन्होने बताया कि उपरोक्त आयोजित होने वाले कृषक मेला व कृषि प्रदर्शनी में सांसद, विधायक एवं जनप्रतिनिधि प्रतिभाग करेगे उन्होंने बताया कि आयुष चिकित्सा पद्वति की अखण्डता, प्रभावों उत्पादकता और सुरक्षा की दृष्टि से कृषि प्रणाली में शामिल करने, उत्पादन को बढ़ावा देने हेतु आयोजित कृषक गोष्ठी/कृषक प्रदर्शनी/कृषक मेला में औषधीय पौधों का कृषकों के जीवन में महत्व तथा औषधीय पौधों की उपलब्धता, खेती उनके प्रसंस्करण उनके विपणन की सम्पूर्ण जानकारी स्टाॅल लगाकर कृषकों को प्रोत्साहित करने हेतु निर्देश दिये गये।

विकास खण्ड स्तर पर व्यापक प्रचार-प्रसार विभिन्न माध्यमों से कराते हुये अधिक से अधिक क्षेत्रीय कृषकों/महिलाओं की सहभागिता कराना सुनिश्चित करें। कार्यक्रम में कोविड-19 से बचाव हेतु निर्देशों का कड़ाई के साथ अनुपालन करना होगा जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग से बैठने, मास्क पहनने की अनिवार्यता, सैनिटाईजेशन, हाथ धोने की उचित व्यवस्था की जाये।

रिपोर्ट :- मनोज कुमार शिवहरे