सोचिये जहाँ एक ओर पूरा विश्व महिलाओं की तरक्की और सशक्तिकरण की ओर ध्यान दे रहा है, वहीं दूसरी ओर इस्लाम के नाम पर सत्ता पर आये आतंकवादी संगठन तालिबान की नजरों में लड़कियाँ सेक्स के साधन और बच्चे पैदा करने के अलावा और कुछ नहीं है। अफगानिस्तान में लड़कियों के लिए इससे बुरा वक्त कभी नही आ सकता। हर अफगानी लड़की में मन में सिर्फ यही डर है कि पता नहीं कब तालिबान के दरिंदे उन्हें उठा कर ले जायें और उन्हें सेक्स स्लेव बना दें।

अफगानिस्तान की एक ऐसी ही लड़की का वीडियो ट्विटर (Afghan Girl Video) पर इस वक्त ज़बरदस्त वायरल हो रहा है। 45 सेकंड के ही इस वीडियो में आप खौफ (Scared Afghan Girls) को अपनी नसों में महसूस कर लेंगे. ज़रा सोचिए स्कूल-कॉलेज और करियर के बारे में सोचने वाली इन लड़कियों के सामने रेप और सेक्स स्लेव (Afghan Girls rape and sex slave) जैसे तालिबानी जिन्न ज़िंदा हो उठे हैं और उन्हें इनसे बचाने वाला कोई भी नहीं है।

अफगान लड़की (Afghan Girl Video) के आंसुओं ने दिखाई खौफ की तस्वीर

एक्टिविस्ट मासिह अलीनेजाद (Masih Alinejad) के ट्विटर अकाउंट से शेयर किए गए वीडियो में एक अफगानी लड़की (Afghani Girl Crying) जिस तरह बेबसी के आंसू रोती हुई दिख रही है, उसे देखकर आपका कलेजा भी कांप उठेगा. 45 सेकेंड की क्लिप में लड़की के चेहरे पर हज़ार भाव आते-जाते दिख रहे हैं. मानो उसे अपना भी भविष्य उन्हीं नकाबपोश लड़कियों में दिख रहा है, जिन्हें तालिबानी जानवरों (Taliban Treat Girls like Animals) की तरह समझते हैं. लड़की रोते हुए बताती है कि उसका जुर्म सिर्फ इतना है कि वो अफगानिस्तान (Afghanistan Taliban) में पैदा हुई है. वो कहती है- ‘हमारी गिनती ही नहीं होती, क्योंकि हम अफगानी लड़किया हैं. मैं सिर्फ रो सकती हूं क्योंकि हम इतिहास में धीरे-धीरे मर रहे हैं. किसी को भी हमारी परवाह नहीं’.

तालिबानियों की नज़र में महिलाएं सिर्फ ‘ऑब्जेक्ट’

इस लड़की ने तो नहीं, लेकिन इसकी मां या घर की बड़ी महिलाओं ने साल 1996-2001 तक का तालिबानी शासन ज़रूर देखा होगा. इसने भी वो दास्तान सुनी होगी, तभी डर के मारे उसकी रूह कांप रही है. स्कूल-कॉलेज, दोस्त तो छोड़िए, महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलने दिया जाता. तालिबानी राज में 12 साल के ऊपर की बच्चियां भी सेक्स स्लेव बना दी जाती हैं. अगर वो दहलीज़ से बाहर कुछ बेहतर करने का सोचती हैं तो तालिबानी उन्हें नेस्तनाबूत कर देते हैं.

मौत, रेप या फिर सेक्स स्लेव बनकर बच्चे पैदा करो

महिलाओं, लड़कियों और बच्चियों तक के नसीब में तालिबान सिर्फ तीन चीज़ें लिख देते हैं – मौत, रेप या फिर सेक्स स्लेव बनकर बच्चे पैदा करना. तालिबानी कब्ज़ा होने के बाद ही उन्होंने घर-घर जाकर 12 साल से ऊपर की बच्चियों को उठाना शुरू कर दिया है. उनका भविष्य निर्धारित किया जा चुका है- या तो उनकी शादी उम्र में दुगने या तिगुने शख्स के साथ कर दी जाएगी या फिर उन्हें सेक्स स्लेव के तौर पर बेच दिया जाएगा. इस खौफनाक सच्चाई को जानने के बाद अफगानी लड़कियों की आंखों में आंसू आना लाज़मी है. यूनाइटेड नेशंस तक ये हालात पहुंच रहे हैं, वे भी इसकी असलियत जानते हैं, लेकिन मानो इसका कोई हल किसी के पास बचा ही नहीं है. इन लड़कियों के आंसू बेमोल हैं और इनका भविष्य घने अंधकार में.